साउथ कैंपस से हटे राजीव गांधी का नाम, उन्होंने BHU के लिए कुछ नहीं किया, पैनल का सुझाव

"कोर्ट के सदस्‍यों ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी कभी BHU नहीं आए... पूर्व मानव संसाधन विकास मंत्री अर्जुन सिंह ने BHU के साउथ कैंपस का नाम पूर्व पीएम राजीव गांधी के नाम पर रखा."

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) कोर्ट ने सुझाव दिया है कि साउथ कैंपस से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का नाम हटा दिया जाए. पैनल मानता है कि गांधी ने BHU के लिए “कुछ नहीं किया.”

BHU कोर्ट दरअसल यूनिवर्सिटी की एडवायजरी बॉडी है. यह प्रस्‍ताव एकेडमिक काउंसिल को भेजा जाएगा, जो अंतिम फैसला करेगी. राजीव गांधी साउथ कैंपस को मिर्जापुर के बरकच्‍छा में 2006 में स्‍थापित किया गया था.

इलाहाबाद हाई कोर्ट के पूर्व जज और चांसलर गिरिधर मालवीय ने सोमवार को कोर्ट की बैठक की अध्‍यक्षता की. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्‍होंने इस बात की पुष्टि की है कि प्रस्‍ताव एकेडमिक काउंसिल को भेजा जाएगा.

रिटा. जस्टिस मालवीय ने कहा, “कोर्ट के सदस्‍यों ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी कभी BHU नहीं आए… पूर्व मानव संसाधन विकास मंत्री अर्जुन सिंह ने BHU के साउथ कैंपस का नाम पूर्व पीएम राजीव गांधी के नाम पर रखा.”

चांसलर ने कहा, “फिर यह तय हुआ कि साउथ कैंपस से राजीव गांधी का नाम हटाने के लिए एकेडमिक काउंसिल को प्रस्‍ताव भेजा जाएगा.” मालवीय ने कहा कि प्रस्‍ताव को कोर्ट के सभी सदस्‍यों का समर्थन हासिल था.

ये भी पढ़ें

BHU: फिरोज खान ने छोड़ा संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय, कला संकाय में पढ़ाएंगे संस्कृत