आजम खान को बड़ा झटका, जौहर यूनिवर्सिटी की 140 बीघा जमीन का पट्टा रद्द

सपा नेता ने सत्ता में रहते नदी की जमीन को यूपी सरकार से 30 साल के लिए लीज पर लिया था.

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान को एक और बड़ा झटका लगा है. रामपुर जिला प्रशासन ने आजम खान की करोड़ों की जमीन का पट्टा रद्द कर दिया गया है.

सपा नेता ने सत्ता में रहते नदी की जमीन को यूपी सरकार से 30 साल के लिए लीज पर लिया था. इस कार्रवाई से आजम खान 140 बीघा जमीन से बेदखल कर दिए गए हैं. मालूम हो कि कोसी नदी की इस जमीन पर जौहर यूनिवर्सिटी का कैंपस है.

30 साल के लिए लीज पर ली गई थी जमीन
उप जिलाधिकारी (सदर) प्रेम शंकर तिवारी की अदालत ने शुक्रवार को जौहर यूनिवर्सिटी की 7 हेक्टेयर जमीन के पट्टे को रद्द कर दिया. यह जमीन 2013 में 30 साल के लिए मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के जॉइंट सेक्रटरी नसीर अहमद खान के नाम से लीज पर ली गई थी.

अदालत ने कहा कि यह कोसी नदी क्षेत्र की रेतीली जमीन है, जो सार्वजनिक उपयोग की है. अदालत ने यह भी माना कि इस जमीन को गलत तरीके से लीज पर दिया गया था.

गौरतलब है कि अदालत ने इससे पहले जौहर यूनिवर्सिटी के बीच से गुजरने वाली सड़क को लेकर 3.27 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था. साथ ही अदालत ने 15 दिन के अंदर यूनिवर्सिटी गेट को हटाने का आदेश भी दिया था.

ED दर्ज कर सकता है मनी लॉन्ड्रिंग का केस
वहीं, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) किसी भी वक्त आजम खान के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज कर सकता है. ईडी ने रामपुर पुलिस प्रशासन से सपा सांसद आजम खान और अन्य के खिलाफ दर्ज 28 एफआईआर की डिटेल्स मांगी है. रामपुर पुलिस और प्रशासन अभी सभी एफआईआर की स्क्रूटनी कर रहा है.

आजम खान के खिलाफ 27 एफआईआर अलियागंज गांव के किसानों की शिकायत पर दर्ज की गई है. इसमें आजम खान पर आरोप लगा है कि उन्होंने जौहर यूनिवर्सिटी में मेडिकल कॉलेज बनाने के लिए इन किसानों की जमीन पर कब्जा किया है. 28वीं एफआईआर नदी किनारे यूनिवर्सिटी के लिए ही पांच हेक्टेयर जमीन पर कब्जे को लेकर की गई है.

ये भी पढ़ें-

चौथी बार कर्नाटक के सीएम बने येदियुरप्‍पा, पुराने आदेश रोके, 29 को फ्लोर टेस्‍ट

Exclusive: आजम को मिले कड़ी सजा, संसद में गंदी बात कर दुख पहुंचाया: रमा देवी

CM पद की शपथ लेते ही मुसीबत में घिरे येदियुरप्पा, 9 साल पुराना करप्शन केस खुला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *