आजम खान की यूनिवर्सिटी पर छापा, 4 गिरफ्तार, सहयोगी के नाम लुकआउट नोटिस

जौहर यूनिवर्सिटी के अंदर मुमताज़ लाइब्रेरी में पुलिस टीम सर्चिंग कर रही है.

लखनऊ: मदरसा आलिया की 9000 से ज्यादा किताबों की चोरी के मामले में मंगलवार को रामपुर पुलिस ने जौहर यूनिवर्सिटी में छापेमारी की है. रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी में यूपी पुलिस ने भारी बल के साथ मंगलवार को छापा मारा है.

जौहर यूनिवर्सिटी के अंदर मुमताज़ लाइब्रेरी में पुलिस टीम सर्चिंग कर रही है. पुलिस गोपनीय सूचना के आधार पर यह कार्रवाई कर रही है. पुलिस ने यहां से 4 लोगों को हिरासत में लिया है.

वहीं पुलिस ने रामपुर के पूर्व सीओ आले हसन की  के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डों, बंदरगाहों और जमीनी सीमाओं पर लुक आउट नोटिस (एलओसी) जारी किया गया है. आले हसन सांसद आजम खान के करीबी सहयोगी हैं.

रामपुर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अजय पाल शर्मा ने कहा कि जमीन पर कब्जा करने और जबरन बसूली के 27 मामलों में वांछित हसन के खिलाफ एलओसी जारी कर दिया गया है. ये मामले आलियागंज गांव के निवासियों ने अजीमनगर पुलिस स्टेशन में दर्ज कराए हैं.

राज्य पुलिस से रिटायर्ड के बाद हसन फिलहाल मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी में सुरक्षा प्रभारी हैं. एसपी अजय पाल शर्मा ने यह भी कहा कि पुलिस ने आजम खान के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन तथा भारतीय दंड संहिता (IPC) की अलग-अलग धाराओं के तहत अदालत में दर्ज 13 मामलों में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है.

रामपुर के एसपी ने कहा, “मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के प्रशासनिक अधिकारी और प्रबंधक को नोटिस भेज कर उस जमीन के दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है जिसके लिए यूनिवर्सिटी और उसके कुलाधिपति ने किसानों से खरीदने का दावा किया था. किसानों ने अब उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया है.”

उन्होंने कहा, “हमने यूनिवर्सिटी प्रशासन से उस भुगतान के सबूत पेश करने के लिए भी कहा है, जो किसानों से यूनिवर्सिटी के निर्माण के लिए जमीन खरीदते समय उन्हें भुगतान करने का दावा किया है.”

ये भी पढ़ें- उन्‍नाव रेप केस में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर BJP से निलंबित ही रहेंगे, बोले यूपी चीफ

ये भी पढ़ें- अररिया के जल्लादों से हारा ITBP का अर्जुन, कहा- न्याय करिए सरकार