बरेली: जमीन के अंदर मटके में मिली बच्ची, साक्षी मिश्रा के पिता ने लिया गोद

'सीता' अभी सिर्फ आठ दिन की है. वह चार दिन तक जमीन के अंदर दबी रही.

उत्तर प्रदेश के बरेली के बिथरी चैनपुर सीट से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल ने मंगलवार को एक नवजात बच्ची को गोद लिया. बच्ची रविवार को श्मशान भूमि में खुदाई के दौरान जमीन के अंदर मटके में मिली थी. किसी ने बच्ची को मटके में बंद करके वहां दफना दिया था. मासूम बच्ची का नाम ‘सीता’ रखा गया है.

‘सीता’ अभी सिर्फ आठ दिन की है. वह चार दिन तक जमीन के अंदर दबी रही. डॉक्टर्स का कहना है कि बच्ची के शरीर में मौजूद ब्राउन फैट ने उसे जिंदा रखा. चार दिन घड़े में पड़े रहने की वजह से उसके शरीर पर इंफेक्शन जरूर फैल गया है. ब्राउन फैट नष्ट होने से पेट और गालों पर झुर्रियां भी पड़ गई हैं.

बच्ची को गोद लेने के बाद राजेश मिश्रा ने कहा कि सरकार की ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना के तहत वे इसका सारा खर्चा उठाएंगे. उन्होंने कहा कि इसकी शिक्षा और पालन-पोषण की जिम्मेदारी भी निभाएंगे.

श्मशान में गड्ढा खुदवाना शुरू किया तो…
मालूम हो कि सीबीगंज के रहने वाले हितेश कुमार की दारोगा पत्नी ने प्रीमेच्योर बच्ची को जन्म दिया, जिसकी कुछ देर बाद ही मौत हो गई. हितेश अपनी मृत बच्ची को दफनाने के लिए श्मशान गए. यहां पर उन्होंने गड्ढा खुदवाना शुरू किया. इसी दौरान करीब तीन फुट की खुदाई के बाद फावड़ा किसी चीज से टकराया.

लोगों ने जब मिट्टी हटा कर देखा गया तो अंदर एक मटका मिला. मटके के अंदर एक बच्ची थी जिसकी सांसें चल रही थीं. यह देख कर सभी लोग हैरान रह गए. बच्ची को सावधानी से बाहर निकाला गया. इसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया.

राजेश मिश्रा की बेटी ने की लव मैरिज
बता दें कि विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा बीते 3 जुलाई को अपने घर से अचानक चली गई थीं. और उन्होंने अजितेश नाम के शख्स से लव मैरिज कर ली थी. इसके बाद 10 जुलाई को दोनों का सोशल मीडिया पर एक वीडियो आया था.

वीडियो में साक्षी ने अपनी जान को खतरा बताया था. इसके अगले दिन यानी 11 जुलाई को साक्षी ने एक और वीडियो सामने आया. इसमें उन्होंने अपने पिता राजेश मिश्रा, भाई विक्की भरतौल और पिता के करीबी राजीव राणा से जान का खतरा बताया था. इसे लेकर काफी हो-हल्ला हुआ था.

ये भी पढ़ें-

सुन लो इमरान, अब तरसेगा पाकिस्तान : ’70 साल से पानी पाकिस्तान जाता रहा, ये मोदी उसे रोकेगा’

‘RSS पर लगे बैन, नहीं तो देश को कर देंगे बर्बाद’ बोले अकाल तख्त जत्थेदार

वो काला बंदर, जिसे देखकर जज ने सुनाया था रामजन्मभूमि का ताला खुलवाने का फैसला