वकीलों को एक भी दिन हड़ताल पर नहीं जाना चाहिए, SC ने बार एसोसिएशन को लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाइकोर्ट के उस आदेश पर रोक लगाने की मांग की थी जिसमे हाइकोर्ट ने पांच मेंबर बेंच का गठन करके सुनवाई का आदेश ट्रिब्यूनल बनाने के खिलाफ आयी PIL पर दिया था.
Supreme court, वकीलों को एक भी दिन हड़ताल पर नहीं जाना चाहिए, SC ने बार एसोसिएशन को लगाई फटकार

लखनऊ: यूपी सरकार द्वारा हाल ही में बनाए गए शिक्षा सेवा अधिकरण के गठन के मामले में सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को रद्द कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट को इस मामले में स्वतः सज्ञान नही लेना चाहिए था. कोर्ट द्वारा मामले में स्वतः सज्ञान लेने से लखनऊ हाइकोर्ट 7 दिन तक हड़ताल रहा.

इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद और लखनऊ हइकोर्ट के बार एसोसिएशन को भी फटकार लगाई है.

सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि वकीलों को एक भी दिन हड़ताल पर नही जाना चाहिए. ऐसा होने से आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो जाता है.

दअरसल सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाइकोर्ट के उस आदेश पर रोक लगाने की मांग की थी जिसमे हाइकोर्ट ने पांच मेंबर बेंच का गठन करके सुनवाई का आदेश ट्रिब्यूनल बनाने के खिलाफ आयी PIL पर दिया था.

यूपी सरकार के निर्णय के ख़िलाफ़ इलाहाबाद हाइकोर्ट और लखनऊ स्थित अवध बार एसोसिएशन ने 16 और 17 अगस्त को हड़ताल की थी. यूपी सरकार ने अगस्त में ही उत्तर प्रदेश एजुकेशन सर्विस एक्ट 2019 पास कर ट्रिब्यूनल बनाया था, जिसे राष्ट्रपति की संतुति मिलना बाकी है.

Related Posts