प्रतिबंध के बावजूद वाराणसी में ऊंट की कुर्बानी देने पर अड़े लोग, फोर्स तैनात

बकरीद के अगले दो दिन यानी मंगलवार और बुधवार को वाराणसी के सलेमपुरा इलाके में ऊंट की कुर्बानी देने का कार्यक्रम था.

वाराणसी. बकरीद पर ऊंट की कुर्बानी देने को लेकर मुस्लिम समुदाय के लोग अड़े हुए हैं, वहीं प्रशासन उन्हें ऐसा करने से रोक रही है. बता दें कि, पिछले साल से ही सरकार ने बकरीद पर ऊंट की कुर्बानी पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन इसके बावजूद भी लोगों ने ऊंट की कुर्बानी दी थी.

वाराणसी के मदनपुरा, सलेमपुरा व जलालीपुर इलाके में बकरीद के अगले दिन ऊंट की कुर्बानी देने का चलन है. लेकिन पिछले साल लगे प्रतिबंध के बाद प्रशासन कुर्बानी देने से लोगों को रोक रहा है. ऐसे में अधिकारीयों को लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा है. इलाके में तनाव को देखते हुए प्रशासन ने भारी फोर्स तैनात करने का निर्णय लिया है.

बकरीद के अगले दो दिन यानी मंगलवार और बुधवार को वाराणसी के सलेमपुरा इलाके में ऊंट की कुर्बानी देने का कार्यक्रम था. इसकी सुचना जब प्रशासन को मिली तो एडीएम सिटी विनय कुमार भारी फोर्स के साथ शनिवार को कुर्बानी स्थल पर पहुंचे. यहां उन्होंने जब ऊंट को ले जाने का प्रयास किया तो सैकड़ों लोग घरों से बाहर निकल आए और हंगामा करने लगे. इसपर अधिकारी मौके से लौट आए और इलाके में फोर्स तैनात करने का निर्णय लिया गया. सलेमपुरा मैदान में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने शनिवार रात से लेकर अगले दिन तक विरोध प्रदर्शन किया, वहीं आदमपुर थाने की पुलिस बड़े बुजुर्गों के साथ वार्ता कर उन्हें मनाने में लगी है.

प्रशासन की सख्ती को देखते हुए कुर्बानी स्थल से ऊंटों को रविवार सुबह हटा लिया गया, लेकिन उसकी जगह पर सौ से ज्‍यादा पड़वे लाकर बांध दिए गए हैं. इसके बाद फिर से तनाव बढ़ गया है. भारी पुलिस बल की तैनाती के बाद पड़वे भी हटा लिए गए हैं. इस घटना से मुस्लिम समुदाय के लोगों और पुलिस प्रशासन के बीच तनाव का माहौल है. जिसको देखते हुए अधिक फोर्स तैनात की गई है.

ये भी पढ़ें: तीन बकरों की कीमत 22 लाख, मालिक के हाथ लगा जैकपॉट