ज़मीन कब्ज़ाने के मामले में आज़म की मुसीबत दोगुनी, आरोप लगाने वाले किसान पहुंचे हाईकोर्ट

किसानों की मांग है कि आजम खान की रिट याचिका कोर्ट में आने पर उनका पक्ष सुना जाए.

प्रयागराज: रामपुर से सपा सांसद आजम खान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रहीं हैं. शनिवार को आजम खान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने वाले 26 किसान हाईकोर्ट पहुंचे. किसानों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में कैविएट एप्लीकेशन दाखिल की है. किसानों ने आजम खान पर जबरन जमीन हथियाने को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है.

जमीन पर कब्जा करने को लेकर रामपुर के अज़ीम नगर थाने में आजम खान के खिलाफ मुकदमे दर्ज हैं. किसानों की मांग है कि आजम खान की रिट याचिका कोर्ट में आने पर उनका पक्ष सुना जाए. वरिष्ठ अधिवक्ता विजय गौतम के मुताबिक किसानों ने कैविएट एप्लीकेशन दाखिल की है.

राज्यपाल के पास पहुंचे थे किसान

इससे पहले किसानों ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल से मुलाकत कर आजम खान के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. उत्तर प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल राम नईक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेटर जारी कर मामला संज्ञान में लेकर उचित कार्रवाई करने को कहा था.

क्या होती है कैविएट

कैविएट का मतलब होता है ऐसी याचिका जिसमें याचिकाकर्ता का पक्ष सुने बिना अदालत अपना फैसला नहीं दे सकती है. यह कैविएट उच्चतम और उच्च न्यायासय में दाखिल की जाती हैं. कैविएट उस परिस्थिति में दाखिल किया जाता है जब याचिकाकर्ता को ऐसा पूर्वानुमान हो कि दूसरा पक्ष उसकी याचिका को चुनौती दे सकता या फिर उसे अदालत से खारिज करवा सकता है.

ये भी पढ़ें- बेटे के फर्जी दस्‍तावेज मामले पर सफाई में आजम खान ने क्‍यों लिया लादेन और दाऊद का नाम?

ये भी पढ़ें- आजम पर जमीन हड़पने का आरोप, ED ने दर्ज किया मनी लॉन्ड्रिंग केस