सोनभद्र नरसंहारः देखते ही देखते लग गया लाशों का ढेर, जमीनी विवाद के पीछे की अनसुनी कहानी

घटना के बाद उभभा गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. पीड़ित परिवारों में मातम पसरा हुआ है. पुलिस हर एंगल से मामले की छानबीन कर रही है. अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.
सोनभद्र नरसंहार, सोनभद्र नरसंहारः देखते ही देखते लग गया लाशों का ढेर, जमीनी विवाद के पीछे की अनसुनी कहानी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में जमीनी विवाद को लेकर हुए नरसंहार से हर कोई दहल गया. जमीन के इस विवाद में 10 लोग मौत की भेंट चढ़ गए. दो दर्जन से ज्यादा की जान पर बन आई. आशंका है कि अभी कई और लोग मौत के मुंह में जा सकते हैं. 90 बीघा जमीन का ये विवाद नया नहीं है. पिछले कई माह से दो पक्ष इस मामले को लेकर आमने-सामने थे.

विवाद की शुरूआत साल 2017 में उस वक्त हुई, जब घोरावल कोतवाली क्षेत्र के उभभा गांव में ग्राम प्रधान ने खुद 90 बीघा जमीन खरीदी. तब प्रधान विरोधी एक पक्ष जमीन पर अपना कब्जा बता रहा था. जिसकी वजह से प्रधान ने जमीन तो खरीद ली लेकिन कब्जा नहीं ले सका. इसी दौरान मामले में नया मोड़ आ गया.

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह के मुताबिक उस जमीन पर पहले से विवाद था. इससे पहले बिहार कैडर के एक आईएएस अधिकारी ने वो विवादित जमीन खरीदी थी. जब गांव वालों को इस बात का पता चला तो उस वक्त भी उन्होंने विरोध किया था. जमीन के कब्जे लेकर गांव का एक पक्ष अडिग था. वो किसी को कब्जा नहीं लेने देता था.

फिर प्रधान की एंट्री इस मामले में हो गई. तभी से उभभा गांव में आए दिन इस जमीनी विवाद के चलते छोटे-मोटे मामले होते रहे. लेकिन दो साल पहले जमीन खरीदने वाले प्रधान का सब्र अब जवाब देने लगा. लिहाजा उसने जमीन कब्जाने के लिए एक योजना बनाई. जिसके चलते बुधवार को वह प्रधान 30 ट्रैक्टर ट्रॉलियों में अपने समर्थकों को लेकर उभभा गांव में जा पहुंचा.

इससे पहले लोग कुछ समझ पाते, उसके हथियारबंद समर्थक जमीन पर कब्जा करने पहुंच गए. कुछ लोगों ने जमीन की जुताई शुरू कर दी. स्थानीय पक्ष को जब इस बात की ख़बर लगी तो कुछ पुरुष और महिलाएं मौके पर जा पहुंचे. जिन्हें देखते ही प्रधान के समर्थकों ने लाठी डंडों से उनकी पिटाई शुरू कर दी.

दूसरे पक्ष की तरफ से और ग्रामीण मौके पर पहुंच गए. जिन्हें देखते ही प्रधान पक्ष के लोगों ने फायरिंग शुरू कर दी. पूरा इलाका गोलियों की आवाज़ से गूंज उठा. हर तरफ चीख पुकार मच गई. लोग लहूलुहान होकर इधर-उधर गिरने लगे. इस दौरान कई लोगों को गोली लगी और दो दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए.

वारदात को अंजाम देने के बाद हमलावर मौके से भाग निकले. गोली लगने से मौके पर ही 6 पुरुषों और 3 महिलाओं की मौत हो गई. कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. इस खूनी संघर्ष की सूचना मिलते ही सोनभद्र के पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर जा पहुंचे.

पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाए. जबकि सभी घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भिजवाया गया. अभी तक इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस खूनी संघर्ष से इलाके में दहशत फैल गई. बताया जा रहा है कि हमलावरों की संख्या 200 से ज्यादा थी. वे पूरी तैयारी के साथ आए थे.

घटना के बाद उभभा गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. पीड़ित परिवारों में मातम पसरा हुआ है. पुलिस हर एंगल से मामले की छानबीन कर रही है. अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.

Related Posts