रोहित शेखर की मां ने कहा ‘मेरा बेटा जिनके कारण डिप्रेशन में था उनके नाम जरूर बताऊंगी’

उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड के पूर्व सीएम एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मंगलवार शाम को संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. मौत के बाद रोहित की मां ने चौंकाने वाला बयान दिया है.

नई दिल्ली: पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की मौत के बाद शेखर की मां उज्जवला ने मीडिया से बात की. उन्होंने रोहित की मौत से जुड़ीं चौंकाने वाली बाते कहीं हैं. उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि मेरे बेटे की स्वाभाविक (नेचुरल) मृत्यु हुई है लेकिन ये मैं बाद में बताऊंगी कि वो क्या परिस्थितियां थीं जो उसकी मौत के लिए जिम्मेदार हैं.

इससे साफ जाहिर होता है कि मौत की वजह कुछ और भी है. रोहित की मां ने आगे कहा कि, “मौत नेचुरल जरूर है लेकिन मेरे बेटे को मानसिक यंत्रणा दी गई, मेरा बेटा अवसाद से घिरा हुआ था. रोहित का पॉलिटिकल कैरियर नहीं बन पाया, जिसकी वजह से वह काफी डिप्रेशन में था.”

“मेरे बेटे ने अपने पिता को उन तत्वों से भी बचाया जो उनके लिए हानिकारक थे. रोहित की मां ने बताया जिन्होंने मेरे बेटे को अवसाद में डाला, उनका नाम जरूर बताएंगी, लेकिन अभी नहीं. उन्होंने कहा कि मन में बहुत सी बातें हैं, लेकिन ये बात करने का सही समय नहीं है, मुझे बहुत कुछ कहना है.”

उन्होंने ये भी साफ किया कि रोहित को न्यूरो से जुड़ी कोई समस्या नहीं थी. हालांकि, आज उज्जवला ने बेटे के डिप्रेशन की केवल वजह बताई, लेकिन किसी का नाम नहीं लिया. उन्होंने कहा कि, “सही समय आने पर मैं नाम बताऊंगी. रोहित बहुत सुलझे और अच्छे इंसान थे. उन्होंने अपने पिता की बहुत सेवा की, लेकिन इतनी छोटी उम्र में वह चले गए. इस पर हमें भी विश्वास नहीं हो रहा है.”

ये था मामला-

उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड के पूर्व सीएम एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मंगलवार शाम को संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. उन्‍हें हार्ट अटैक आया था, जिसके बाद उन्‍हें पत्नी और मां ने मैक्स में भर्ती करवाया था. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था.

2008 में रोहित शेखर ने एनडी तिवारी को अपना जैविक पिता बताते हुए कोर्ट में मुकदमा कर दिया था.

कोर्ट ने डीएनए टेस्ट कराने का आदेश दिया तो एनडी तिवारी ने नमूना देने से इनकार कर दिया था. बाद में एनडी तिवारी ने रोहित शेखर को बेटा मानते हुए उन्‍हें संपत्ति का वारिस भी बनाया.

इतना ही नहीं, एनडी तिवारी ने रोहित शेखर की मां उज्‍जवला से 88 साल की उम्र में शादी की थी. उज्जवला से एनडी तिवारी के प्रेम संबंध रहे, मगर उन्होंने शादी नहीं की थी. बाद में रोहित शेखर को बेटा स्‍वीकार करने के बाद शादी भी की.

एनडी तिवारी ने कहा था, ‘मुझे अपनी तरह से जिंदगी जीने का हक है. किसी को मेरी निजी जिंदगी में झांकने का हक नहीं. मेरी निजता का सम्मान करें.’ 3 मार्च 2014 को एनडी तिवारी ने रोहित शेखर को बेटा माना. उन्‍होंने कहा, ‘डीएनए टेस्ट से भी साबित हुआ है कि वह मेरा जैविक पुत्र है. 14 मई 2014 को तिवारी ने रोहित शेखर की मां उज्जवला तिवारी से लखनऊ में हुए एक समारोह में शादी की थी.’

एनडी तिवारी का निधन अक्‍टूबर 2018 में हो गया था. वह 93 साल के थे. वह इकलौते ऐसे शख्स थे, जो दो राज्यों के मुख्यमंत्री पद पर रहे. वह तीन बार उत्तरप्रदेश और एक बार उत्तराखंड के सीएम बने. एनडी तिवारी आंध्र प्रदेश के राज्यपाल भी रहे.

ये भी पढ़ें- बच्‍चा नहीं, पिता नाजायज होता है’, ये बात कहने वाले रोहित शेखर की कहानी

ये भी पढ़ें- एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत