डंके की चोट पर कह रहा हूं, किसी कीमत पर वापस नहीं होगा CAA: अमित शाह

अमित शाह ने कहा कि विभाजन के समय पश्चिमी पाकिस्तान में 23% और पूर्वी पाकिस्तान में 30% हिन्दू, सिख, बौद्ध और जैन थे, और आज सिर्फ 3% और 7% रह गए हैं.

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में मंगलवार को लखनऊ के बंगला बाजार स्थित रामकथा पार्क में एक रैली को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि सीएए के खिलाफ प्रचार किया जा रहा है कि इसकी वजह से इस देश के मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी.

शाह ने कहा, “राहुल बाबा की पार्टी के पाप के कारण धर्म के आधार पर भारत मां के दो टुकड़े हुए. विभाजन के समय पश्चिमी पाकिस्तान में 23% और पूर्वी पाकिस्तान में 30% हिन्दू, सिख, बौद्ध और जैन थे, और आज सिर्फ 3% और 7% रह गए हैं. मैं विरोध करने वालों से पूछना चाहता हूं कि यह लोग कहां गए?”


गृहमंत्री ने कहा कि ‘मेरे लाखों हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन भाई जो अपनी अरबों-खरबों की संपत्ति छोड़ शरणार्थी बनकर भारत आये, जिनके पास न खाना है, न घर है, वोट देने ले लिए नागरिकता नहीं है, न दवाई है न नौकरी है, इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता देकर सम्मान देने का काम किया है.’

उन्होंने कहा, “CAA को लोकसभा में मैंने पेश किया है. मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लें. CAA अगर किसी भी व्यक्ति की नागरिकता लेता हो, तो दिखाएं. इस बिल में कहीं पर भी किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं है.”


शाह ने कहा कि 70 साल से पीड़ित लोगों को नरेन्द्र मोदी जी ने जीवन का नया अध्याय शुरू करने का मौका दिया है. मैं डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसको विरोध करना है करे, CAA वापस नहीं होगा.

उन्होंने कहा, “2 वर्ष पहले JNU में नारे लगे- भारत तेरे टुकड़े हों… पीएम मोदी ने उनको जेल में डाला तो ये अखिलेश, मायावती, राहुल कहते हैं कि ये वाणी स्वतंत्रता का अधिकार है. सभी सुन लो, हमें जितनी गालियां देनी हैं दो, मगर देश विरोधी नारे जो लगाएगा उसे जेल में डाला जाएगा.”

ये भी पढ़ें-

दिल्ली में BJP से गठबंधन पर JDU नेता पवन वर्मा नाराज, बोले- विचारधारा साफ करें नीतीश

CAA के खिलाफ दुष्प्रचार द्रौपदी के ‘चीरहरण’ जैसा, लखनऊ में बोले सीएम योगी

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने अवंतीपोरा में दो आतंकियों को किया ढेर, दो सुरक्षाकर्मी शहीद

Related Posts