उन्नाव गैंगरेप पीड़‍िता कार दुर्घटना मामले में SC कल करेगा सुनवाई, CJI ने मांगी मेडिकल रिपोर्ट

पीड़िता के चाचा अंतिम संस्कार करने के लिए रायबरेली जेल से सीधे गंगाघाट पहुंचेंगे. इसके लिए...

नई दिल्ली: पीड़िता की चाची के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया गंगाघाट पर शुरू हो चुकी है. महेश ने अपनी पत्नी को मुखाग्नि दी. मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है. वहीं, हादसा करने वाले ट्रक ड्राइवर आशीष पाल, क्लीनर मोहन को पुलिस सुरक्षा में रायबरेली जिला सत्र न्यायालय में पेश किया गया.

रविवार को गुरबख्शगंज थाना क्षेत्र के NH232 पर अटौरा के पास रेप पीड़िता की कार में ट्रक ने जोरदार टक्कर मारी थी. हादसे में अब तक दो की मौत हो चुकी है, रेप पीड़िता और उसके वकील की हालत अभी भी गंभीर है.

जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पांडेय ने कुछ समय पहले बताया, “दुष्कर्म पीड़िता के चाचा को हाईकोर्ट से एक दिन के पैरोल की स्वीकृति मिली है. पीड़िता के चाचा अंतिम संस्कार के लिए घाट पर पहुंचेंगे. वे बुधवार सुबह छह बजे से शाम छह बजे तक पैरोल पर रहेंगे. उधर पीड़िता की चाची का शव भी उन्नाव के माखी गांव पहुंच गया है. जिला प्रशासन ने पीड़िता के घर की सुरक्षा बढ़ा दी है. जिला प्रशासन ने रास्ते के साथ ही घाट पर भी सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं.”

SC कल करेगा सुनवाई

नई दिल्‍ली: उन्‍नाव गैंगरेप पीड़‍िता कार एक्‍सीडेंट मामले में सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को सुनवाई करेगा. सीजेआई रंजन गोगोई ने पीड़‍िता की मेडिकल रिपोर्ट मांगी है. मामले की सुनवाई को उत्तर प्रदेश से बाहर ट्रांसफर करने को लेकर पीड़िता ने चिट्ठी काफी समय पहले लिखी थी, लेकिन यह चिट्ठी चीफ जस्टिस को नहीं मिल पाई. इससे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई काफी नाराज हैं.

इस साल जनवरी में पीड़िता की मां ने सुप्रीम कोर्ट में केस ट्रांसफर करने के लिए याचिका दायर की थी. उन्होंने अपनी याचिक में लिखा था कि यूपी में केस की निष्पक्षा जांच नहीं हो पाएगी, इसलिए इसे यहां के बजाए दिल्ली में ट्रांसफर किया जाए.

CBI ने सेंगर के खिलाफ दर्ज किया केस

सीबीआई ने आरोपी कुलदीप सेंगर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. कुल 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. बीजेपी विधायक के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास के तहत मामला दर्ज हुआ है. साथ ही सीबीआई की फोरेंसिक टीम घटनास्थल पर पहुंचेगी और साक्ष्य इकट्ठे करेगी.

दूसरी तरफ, केंद्र सरकार ने पीड़िता की कार के ऐक्सिडेंट के मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है. उत्तर प्रदेश सरकार ने सोमवार को इस मामले में सीबीआई से जांच की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजी थी. साथ ही प्रदेश ने अपने स्तर पर मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन भी किया है. सीबीआई टीम के पहुंचने पर एसआईटी उसे जांच सौंप देगी.

सीबीआई अधिकारियों ने मंगलवार को बताया है कि एजेंसी ऐक्सिडेंट केस में एक एफआईआर दर्ज करेगी. सीबीआई ने अपने अधिकारियों को भी अलर्ट कर दिया है जो रायबरेली में हादसे वाली जगह पर जल्द ही जा सकते हैं और संबंधित थाने से भी जानकारी ली जाएगी.

पीड़िता का हालत बनी हुई नाजुक

वहीं, सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हुई उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है. किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज(केजीएमसी) द्वारा मंगलवार शाम जारी बुलेटिन में कहा गया है कि पीड़िता को गंभीर चोटें आई हैं और उसकी स्थिति नाजुक है. वह अभी भी वेंटीलेटर पर है. पीड़िता का ब्लड प्रेशर गिर रहा है. दुर्घटना की वजह से फेफड़ों में भी चोटें आई हैं. साथ ही दाहिने कॉलर की हड्डी भी टूटी है.

केजीएमयू ट्रामा सेंटर के प्रवक्ता डॉ. संदीप तिवारी ने बताया, “अभी भी पीड़िता की हालत कल जैसी ही बनी हुई है. उसकी हालत में अभी कोई सुधार नहीं आया है. पीड़िता को वेंटीलेटर पर रखा गया है. विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उसकी सेहत पर नजर बनाए हुए है. फ्रैक्च र और ब्लीडिंग से पीड़िता की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है. फेफड़ों में ब्लीडिंग की वजह से भी स्थिति गंभीर है.”

ये भी पढ़ें-

CCD फाउंडर वीजी सिद्धार्थ का शव नदी से बरामद, सोमवार शाम से थे लापता

राजस्थान: मॉब लिंचिंग रोकने के लिए कांग्रेस बनाएगी कानून, देखने वाली भीड़ को भी होगी सजा

CJI रंजन गोगोई ने CBI को दी इजाजत- हाई कोर्ट के सिटिंग जज पर दर्ज करो FIR, पहली बार हुआ ऐसा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *