उन्नाव गैंगरेप: रायबरेली के पास ट्रक-कार की भिड़ंत, चाची और मौसी की मौत, पीड़िता की हालत गंभीर

रायबरेली जिले के गुरबख्शगंज थाना क्षेत्र के अटौरा गांव के पास ट्रक और स्विफ्ट डिजायर कार की आमने-सामने टक्कर हो गई. इस हादसे में शामिल ट्रक का नंबर काले पेंट से पुता हुआ है.


लखनऊ: उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के गुरबख्शगंज थाना क्षेत्र में दर्दनाक सड़क हादसा हुआ. इस हादसे में ट्रक और कार की आमने-सामने भिड़ंत हो गई है जिसमें दो लोगों की मौत हो गई है.

जानकारी के मुताबिक, इसमें उन्नाव रेप केस की पीड़िता समेत कुल तीन लोग सवार थे. रेप पीड़िता की चाची और मौसी की जान चली गई. जबकि रेप पीड़िता को गंभीर हालत में लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया गया है. गौरतलब है कि इस मामले में उन्नाव के स्थानीय विधायक कुलदीप सेंगर आरोपी हैं.

इस जगह हुई घटना
रायबरेली जिले के गुरबख्शगंज थाना क्षेत्र के अटौरा गांव के पास ट्रक और स्विफ्ट डिजायर कार की आमने-सामने टक्कर हो गई. इस हादसे में शामिल ट्रक का नंबर काले पेंट से पुता हुआ है. टीवी9 भारतवर्ष के पास ट्रक के नम्बर की एक्सक्लूसिव तस्वीर हैं. हालांकि रायबरेली पुलिस इस मामले में कुछ कहने को तैयार नहीं है.

पीड़िता को मिली हुई थी सुरक्षा
पीड़िता को सुरक्षा भी मिली हुई थी. पीड़िता के साथ एक गनर और दो महिला सुरक्षाकर्मी तैनात थीं. घटना के दिन यानी आज रायबरेली जाते वक्त गाड़ी में जगह न होने के चलते पीड़िता सुरक्षाकर्मी नहीं ले गई थी. इस मामले में एसपी जांच करा रहे हैं.

सपा एमएलसी ने की मांग
सपा एमएलसी उदयवीर सिंह का कहना है कि घटना जिन हालातो में हुई है वो संदिग्ध है. पीड़िता को सुरक्षा नहीं दी गयी थी. पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हुई है चूंकि मामला हाई प्रोफाइल है और घटना संदिग्ध है इसलिए सपा इस मामले की सीबीआई जांच की मांग करती है.

ये है मामला
जानकारी के मुताबिक उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के चाचा जेल में बंद हैं. चाचा से मिलने के लिए पीड़िता, उसकी चाची और वकील महेंद्र सिंह रायबरेली जेल जा रहे थे. इसी दौरान एक ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी. गंभीर रूप से घायलों को लखनऊ के ट्रामा सेंटर भर्ती कराया गया है. यह हादसा रायबरेली के अतरुआ गांव में हुआ है. इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची. पुलिस ने घायलों को फौरन अस्पताल भेजा.

और पढ़ें- कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा स्पीकर ने 14 बागी विधायकों को अयोग्य करार दिया