उन्नाव गैंगरेप: ट्रक के नंबर प्लेट पर पोती गई थी काली स्याही, पीड़िता के साथ नहीं थे सुरक्षाकर्मी

ADG ने बताया कि जिस ट्रक से कार की भिडंत हुई उसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. ट्रक का नंबर प्लेट ब्लैक इंक से पेंट किया गया था और...

नई दिल्ली: बहुचर्चित उन्नाव गैंगरेप केस की पीड़िता रविवार को सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गई. कार और ट्रक की टक्कर में पीड़िता की चाची व मौसी की मौत हो गई, जबकि उनके वकील महेंद्र सिंह चौहान की हालत नाजुक है. पीड़िता को लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है.

ADG ने किया ट्रामा सेंटर का दौरा
लखनऊ जोन के ADG राजीव कृष्णन ने ट्रॉमा सेंटर का दौरा किया. राजीव कृष्ण ने कहा, “डॉक्टरों ने मुझे बताया कि सड़क दुर्घटना में घायल हुई पीड़िता और वकील को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. उनकी कई हड्डियां टूट गई हैं. उनमें से एक के सिर में चोटें आई हैं.”

ADG ने कहा कि ‘ट्रक को जब्त कर लिया गया है और ड्राइवर को भी गिरफ्तार किया जा चुका है. अभी तक कोई FIR दर्ज नहीं हुई है, मैंने पीड़िता के परिजनों से इस मामले में FIR दर्ज करवाने के लिए कहा है.’

उन्होंने यह भी बताया कि जिस ट्रक से कार की भिडंत हुई उसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. ट्रक का नंबर प्लेट ब्लैक इंक से पेंट किया गया था. लेकिन ट्रक और कार की फोरेंसिक जांच की जाएगी.

IG ने गनर को लेकर कही ये बात
मालूम हो कि पीड़िता को प्रशासन की तरफ से सुरक्षाकर्मी मुहैया कराए गए थे. लेकिन हादसे के वक्त वो उनके साथ नहीं थे. इस पर आईजी ने कहा कि रेप पीड़िता की कार में जगह नहीं होने के कारण उनके साथ गनर नहीं जा पाए थे.

आईजी ने मृतकों के बारे में बताया कि हादसे में पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो गई है. वहीं, पीड़िता और वकील घायल हैं. इस घटना में फतेहपुर के रहने वाले ट्रक ड्राइवर और ट्रक मालिक को गिरफ्तार कर लिया गया है.

ट्रक के नंबर प्लेट पर काली स्याही पोती गई है.

उन्नाव SP का बयान
वहीं, उन्नाव के एसपी माधव प्रसाद वर्मा का कहना है कि संभवता आज पीड़िता और उसके परिजनों ने सुरक्षाकर्मी लेने से मना किया था. लेकिन मामले की जांच की जाएगी, आखिर क्यों सुरक्षाकर्मी पीड़िता के साथ नहीं गए. जबकि रेप पीड़िता और उसके परिवार को तीन सुरक्षाकर्मी दिए गए थे.

उन्होंने बताया कि एक पुरुष और दो महिला कांस्टेबल घर की सुरक्षा में लगाए गए थे. पीड़िता के साथ एक गनर और दो महिला सुरक्षाकर्मी लगाए गए थे.

ये है पूरा मामला
बता दें कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर कई महीनों से जेल में बंद हैं. उनके ही गांव की एक युवती ने उन पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. इस मामले की सीबीआई जांच चल रही है. विधायक के भाई पर आरोप है कि उसने पीड़िता के पिता को पेड़ से बांधकर पीटा, उसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था, जहां उसकी मौत हो गई थी.

पीड़िता के चाचा महेश को एक दूसरे मामले में जेल भेजा गया है. वह रायबरेली जेल में बंद है. रविवार को पीड़िता व कई अन्य रायबरेली जेल से मिलने जा रहे थे. इसी दौरान उनकी कार से एक ट्रक टकरा गई और बड़ा एक्सिडेंट हुआ है.

ये भी पढ़ें-

उन्नाव गैंगरेप: पीड़िता की बहन का आरोप- विधायक के लोग दे रहे थे जान से मारने की धमकी

उन्नाव गैंगरेप: रायबरेली के पास ट्रक-कार की भिड़ंत, चाची और मौसी की मौत, पीड़िता की हालत गंभीर

उन्नाव गैंगरेप: सड़क हादसे के बाद गरमाई सियासत, अखिलेश यादव ने की CBI जांच की मांग