उन्नाव पुलिस ने महिला से कहा, ‘जब दुष्कर्म होगा, तब आना’

महिला ने बताया कि वह तीन महीने से थाने के चक्कर लगा रही है, लेकिन किसी ने भी मामले की सुनवाई नहीं की.

आरोपियों द्वारा जलाई गई उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद जहां पूरे देश में रोष व्याप्त है, वहीं उन्नाव पुलिस अपने उसी पुराने निर्दयी रवैये पर कायम है. जानकारी मिली है कि हिंदूपुर गांव, जहां उन्नाव पीड़िता को आरोपियों ने जलाया था, वहां की एक महिला ने शनिवार को आरोप लगाया कि पुलिस ने दुष्कर्म के प्रयास की उसकी शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया.

कथित तौर पर पुलिस ने महिला से कहा कि जब दुष्कर्म हो उसके बाद आना, तभी शिकायत दर्ज होगी. पुलिस स्टेशन में पुलिस ने महिला से कहा, “रेप तो हुआ नहीं, जब होगा तब आना.”

महिला ने बताया कि कुछ महीने पहले गांव के ही तीन लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया था. महिला ने कहा, “मैं अपनी दवाई लेने जा रही थी. तभी तीनों ने मुझे रोका और मेरे कपड़े खींचने लगे. उन्होंने मेरे साथ दुष्कर्म करने का भी प्रयास किया.”

महिला ने आरोपियों की पहचान भी की. इसके बाद जब वह शिकायत करने पुलिस के पास पहुंची तो पुलिस ने उसे भगा दिया और दुष्कर्म होने के बाद आने के लिए कहा.

महिला ने बताया कि वह तीन महीने से थाने के चक्कर लगा रही है, लेकिन किसी ने भी मामले की सुनवाई नहीं की.

महिला ने कहा, “घटना के बाद, मैंने 1090 (महिला हेल्प लाइन) पर फोन किया और उन्होंने मुझे 100 डायल करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने मुझे फिर उन्नाव पुलिस में इस मामले की शिकायत करने के लिए कहा.”

महिला ने आरोप लगाया कि आरोपी उसे शिकायर्त दर्ज कराने पर जान से मारने की धमकी दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

उन्‍नाव गैंगरेप पीड़‍िता ने जिसपर भरोसा किया वही राक्षस निकला, तीन लाख देकर मुंह बंद कराना चाहता था परिवार

90 फीसदी जलने के बाद भी मौत से आखिरी पल तक लड़ती रही वो… पढ़ें पूरा घटनाक्रम