उन्नाव केस : दबंगई और पुलिस की लापरवाही के बावजूद पीड़‍िता की हिम्‍मत नहीं टूटी, वकील ने खोले राज

वकील ने बताया की पीड़िता एलएलबी करना चाहती थी ताकी अपना केस खुद लड़ सके. यहां तक की कानून की जानकारी के लिए पीड़िता ने वकील से कई किताबें भी ली थी.

उन्नाव की रेप पीड़िता तो अब नहीं रही मगर उसकी हिम्मत और साहस की कहानी हम सब के लिए एक मिसाल बन सकती है.

पीड़िता के वकील ने बताया की इतना होने पर भी पीड़िता ने कभी हिम्मत नहीं हारी. वकील ने बताया की किस तरह पुलिस बार-बार पीड़िता को टरकाती रही.

दरअसल वकील महेश सिंह राठौर ने बताया की शुरुआत में रायबरेली थाने में पीड़िता की गुहार नहीं सुनी गई और एफआईआर दर्ज नहीं की गई. इसके बाद पीड़िता ने दिसंबर में अदालत का दरवाजा खटखटाया. जिसमें 21 दिसंबर को 2018 को शीर्ष अदालत ने पुलिस को मुकदमा दर्ज कर जांच के आदेश दिए. मगर पुलिस को लापारवाही इंतेहा यह थी की पुलिस ने कोर्ट के आदेश को भी नहीं माना.

इसके बाद वकील ने 26 फरवरी को फिर याचिका दायर की जिसके बाद 5 मार्च को रायबरेली के लालगंज कोतवाली में आरोपियों के खिलाफ रेप का मामला दर्ज हुआ.

हमले के बाद मांगी थी पुलिस से सुरक्षा
वकील महेश राठौर ने बताया कि आरोपी लगातार पीड़िता और उसके परिवार को धमकी दे रहे थे. यहां तक 12 जुलाई को पीड़िता पर जानलेवा हमला भी हुआ थी, जिसके पीड़िता ने पुलिस उप-महानिरीक्षक को पत्र लिख कर सुरक्षा की मांग की मगर उसपर किसी ने ध्यान ही नहीं दिया. इसके बाद एक अगस्त 2019 को भी पीड़िता ने एसपी को पत्र लिखा और सुरक्षा की मांग की मगर इसबार भी उसके हाथ लगी तो सिर्फ निराशा.

बार-बार सुरक्षा और न्याय की गुहार लगा रही पीड़िता ने एक बार पत्र लिखकर अत्महत्या तक करने की बात कही, मगर जिस तरह पीड़िता लगातार पुलिस को पत्र लिख रही थी, उसी रफ्तार से पुलिस उसकी गुहार को नज़र अंदाज करती जा रही थी.

वकालत कर खुद लड़ना चाहती थी अपनी लड़ाई
अपने साथ हुए अन्याय और इंसाफ पाने के रास्ते मे आ रही रुकावटों से निराश पीड़िता वकालत करना चाहती थी. वकील ने बताया की पीड़िता एलएलबी करना चाहती थी ताकी अपना केस खुद लड़ सके. यहां तक की कानून की जानकारी के लिए पीड़िता ने वकील से कई किताबें भी ली थीं. ताकी वो उन्हें पढ़ सके और कानून को समझ सके. मगर अफसोस जिस कानून को वो समझना चाह रही थी, उसी कानून के रखवालों ने उसके दुख को नहीं समझा.

ये भी पढ़ें : Unnao Case LIVE : फास्‍ट ट्रैक होगा मुकदमा, कांग्रेस नेता बोलीं- रेपिस्‍ट्स को चौराहे पर फांसी दो

Related Posts