उन्नाव गैंगरेप: बयान वापस ले लो नहीं तो सब मारे जाओगे, घर घुसकर देते थे धमकी- पीड़िता की बहन

डीजीपी ने स्पष्ट कर दिया है कि 'अगर परिवारवाले इस मामले को लेकर सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो हम तैयार हैं.'

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता की गाड़ी में रविवार को ट्रक ने टक्कर मार दी.

जिसमें उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस इस मामले में हत्या की साजिश और हादसा, दोनों मानकर जांच कर रही है.

वहीं परिवारवाले इस घटना को पूरी तरह से साज़िश बता रहे है. पीड़िता की बहन का आरोप है उन्हें पहले से ही घर पर धमकी दी जा रही थी.

पीड़िता की बहन के मुताबिक़ ‘हमारे घर पर धमकी दने आते थे और कहते थे कि अभी तो चाचा को अंदर किया है अभी तुम सब को जाना है. सब मरोगे अगर अपना बयान वापस नहीं लिया तो. आरोपी शशि सिंह जो इस समय जेल में हैं उनके पति हरपाल सिंह और उनके बेटे नवीन सिंह दोनों हमारे घर पर आए थे. हम इस विषय में आवेदन भी दिया था लेकिन इसपर कोई कार्रवाई नहीं की गई. हम तो सिर्फ एक कठपुतली हैं एक एक को मारते जाओ और दफ़्न करते जाओ. ये सरकार हमारी दुश्मन है. उनकी पार्टी का एक भी सदस्य हमसे मिलने नहीं आया. यह भी देखने नहीं आया कि वो ज़िदा है कि मर गया.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मीडिया ने हमारी मदद की तो उन पर बिकाऊ होने का लांछन लगा दिया. हमारे घर में अब कोई नहीं बचा है. मुझे समझ नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं.

वहीं डीजीपी ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर परिवारवाले इस मामले को लेकर सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो हम तैयार हैं.

डीजीपी ओपी सिंह ने रायबरेली एक्सीडेंट केस में कहा, ‘अगर पीड़ित परिवार सीबीआई जांच की मांग करता है तो सीबीआई जांच के लिए राज्य सरकार सिफारिश की जाएगी. डीजीपी ने कहा कि सुरक्षा में कोई कमी नहीं थी, ये एक्सीडेंट का केस है. उन्होंने कहा कि एक्सीडेंट करने वाला ट्रक ओवर स्पीड था.’

रायबरेली के अतरिक्त पुलिस अधीक्षक शशि शेखर सिंह ने बताया कि रायबरेली के गुरुबक्शगंज थाना क्षेत्र की अटौरा चौकी के अंतर्गत सुल्तानपुर खेड़ा मोड़ पर कार व ट्रक में टक्कर हो गई, जिसमें कार सवार चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.

उन्होंने बताया कि टक्कर इतनी भीषण थी कि कार का अगला हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां पुष्पा सिंह पत्नी महेश सिंह निवासी माखी को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.

उन्होंने बताया कि मामले की जांच की जा रही है. फॉरेन्सिक जांच टीम को बुलाकर जांच कराई जा रही है.

अतरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है. उससे पूछताछ जारी है.

दुष्कर्म पीड़िता के वकील महेंद्र सिंह के जूनियर विमल ने बताया कि दुष्कर्म पीड़िता, मौसी, चाची और वकील हादसे में घायल हुए हैं. इस हादसे में मौसी और चाची की मौत हो गई है, जबकि दुष्कर्म पीड़िता और उसके वकील की हालत गंभीर है.

बाकी घायलों का इलाज लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है.

हादसे में एक अन्य महिला की भी मौत हुई है. जिस ट्रक से कार की टक्कर हुई है, उस पर सिर्फ यूपी 71 लिखा हुआ है. नंबर प्लेट पर लिखे नंबर को छुपाने के लिए उसे काले रंग से रंग दिया गया है.

विधायक कुलदीप सिंह सेंगर कई महीनों से जेल में बंद हैं. उनके ही गांव की एक युवती ने उन पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. इस मामले की सीबीआई जांच चल रही है.

विधायक के भाई पर आरोप है कि उसने पीड़िता के पिता को पेड़ से बांधकर पीटा, उसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था, जहां उसकी मौत हो गई थी.

पीड़िता के चाचा महेश को एक दूसरे मामले में जेल भेजा गया है. वह रायबरेली जेल में बंद है. रविवार को पीड़िता व कई अन्य रायबरेली जेल से मिलने जा रहे थे.

और पढ़ें- CM आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश से लेकर पीड़िता के एक्सिडेंट तक, जानें उन्नाव केस में कब क्या हुआ