यूपी : बच्‍चों की पढ़ाई के वक्‍त मचाया शोर तो पहुंचेगी पुलिस, पहले समझाएगी नहीं माने तो…

CBSE बोर्ड की परीक्षाएं 15 फरवरी से शुरू हो गई हैं. यूपी बोर्ड के एग्‍जाम भी जल्‍द शुरू होने वाले हैं. ऐसे में बच्‍चे शांति से पढ़ाई कर सकें, इसके लिए यूपी पुलिस अभियान चलाने जा रही है.

एग्‍जाम्‍स का सीजन आ गया है. CBSE बोर्ड की परीक्षाएं 15 फरवरी से शुरू हो गई हैं. उत्‍तर प्रदेश बोर्ड के एग्‍जाम भी जल्‍द शुरू होने वाले हैं. ऐसे में बच्‍चे शांति से पढ़ाई कर सकें, इसके लिए यूपी पुलिस अभियान चलाने जा रही है.

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्‍थी ने निर्देश दिए हैं कि 15 फरवरी से 31 जुलाई तक ध्‍वनि प्रदूषण के खिलाफ पूरे प्रदेश में अभियान चले. इस दौरान, बैंड-बाजा, पार्टी या किसी और सार्वजनिक कार्यक्रम से पढ़ाई में दिक्‍कत हो तो बच्‍चे शिकायत कर सकते हैं.

ADG असीम अरुण के मुताबिक, स्‍टूडेंट्स को ध्‍वनि प्रदूषण के चलते पढ़ाई में परेशानी हो तो वे 112 पर कॉल कर सकते हैं. इसके अलावा फेसबुक, ट्विटर और अन्‍य सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म्‍स पर भी शिकायत की जा सकती है.

पुलिस रिस्‍पांस व्‍हीकल फौरन मौके पर पहुंचेगा. ध्‍वनि प्रदूषण बंद कराया जाएगा. पुलिस पहले चेतावनी देकर सुधार का एक मौका देगी. इसके बाद भी अगर शोर नहीं थमा तो स्‍थानीय थाने में उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

क्‍या है ध्‍वनि प्रदूषण के मानक?

इंडस्ट्रियल एरिया

सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक – 75 डेसिबल
रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक – 70 डेसिबल

कॉमर्शियल एरिया

सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक – 65 डेसिबल
रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक – 55 डेसिबल

रेजिडेंशियल एरिया

सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक – 55 डेसिबल
रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक – 45 डेसिबल

पिछले साल फरवरी-मार्च में ध्‍वनि प्रदूषण के खिलाफ सबसे ज्‍यादा शिकायतें आईं थीं. इसी को ध्‍यान में रखते हुए इस साल ये अभियान शुरू किया गया है. एजुकेशनल इंस्‍टीट्यूट्स के आसपास 100 मीटर का इलाका पहले से ही साइलेंस जोन है.

ये भी पढ़ें

इस तारीख तक PAN कार्ड को Aadhaar से करा लें लिंक, चूके तो होगी बड़ी परेशानी