पानी बचाने के लिए अनोखा आदेश, यूपी विधानसभा में अफसरों-अतिथियों को मिलेगा आधा गिलास पानी

विधानसभा में सिर्फ आधा गिलास पानी देने का आदेश इसलिए जारी किया गया है क्योंकि लोग आधा गिलास पानी ही पीते हैं, बाकी बरबाद हो जाता है.
half glass water, पानी बचाने के लिए अनोखा आदेश, यूपी विधानसभा में अफसरों-अतिथियों को मिलेगा आधा गिलास पानी

‘जल है तो कल है, जल अनमोल है, जल ही जीवन है’ ये सारे नारे अब जुमले बनकर रह गए हैं. पानी की बर्बादी करने में कोई पीछे नहीं है. अब उत्तर प्रदेश की विधानसभा ने पानी बचाने का अनोखा तरीका निकाला है. यहां स्टाफ और मेहमानों को सिर्फ आधा गिलास पानी दिया जाएगा.

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने निर्देश दिया और प्रमुख सचिव प्रदीप दुबे ने सचिवालय में आदेश जारी किया कि अब आधा गिलास पानी ही दिया जाएगा. ये आदेश तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है. दुबे ने कहा-

‘ऐसा देखा गया है कि ज्यादातर भरे हुए गिलास का पूरा पानी इस्तेमाल नहीं किया जाता. अगर कोई पानी चाहता है तो उसे और पानी दिया जा सकता है. इस नियम के तहत किसी भी अधिकारी, कर्मचारी और अतिथि को पानी का पूरा भरा गिलास नहीं दिया जाएगा.’

लखनऊ में आधा गिलास पानी की मुहिम नई नहीं है. इसके पहले किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में भी ये मुहिम शुरू की गई थी. उसके बाद बड़े होटलों, रेस्टोरेंट और स्कूल कॉलेजों तक ये मुहिम पहुंच गई थी. पीने का पानी तो आधा गिलास बचा लेंगे लेकिन जिससे एक घंटे तक कार और सड़क धोई जाती है, वो पानी कैसे बचेगा?

ये भी पढ़ें:

मध्य प्रदेश का एक ऐसा गांव जहां मुफ्त में बंटता है दूध

बाढ़ में डूबा बिहार छोड़कर Super 30 देख रहे उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, विपक्ष ने कहा ‘बेशर्म’

Related Posts