इटावा जेल से फिल्मी स्टाइल में फरार कैदी की ट्रेन से कटकर मौत

शनिवार की रात करीब दो बजे जब सभी कैदी सो गए तो दोनों ने जेल से भागने की तैयारी की.

इटावा: उत्तर प्रदेश की इटावा जेल से शनिवार रात को फिल्मी स्टाइल से भाग निकले. भागने के दौरान एक कैदी की रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से कटकर मौत हो गई और दूसरा कैदी फरार हो गया. कैदी हत्या के आरोप में इटावा जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे थे.

दोनों कैदी रामानंद थाना फफूंद, जिला औरैया और दूसरा कैदी चंद्र प्रकाश उर्फ चंदू थाना इकदिल जिला इटावा के रहने वाले है. दोनो ही हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे. अदालत से सजा होने के बाद उन्हें बैरक नंबर 5-ए में रखा गया था. इस बेरिक में तीन कैदी थे. सुरक्षा के लिए बंदी रक्षकों की तैनाती थी.

बताया जाता है कि रामानंद शातिर किस्म का अपराधी था. इसके चलते विशेष सुरक्षा लगाई गई थी. दोनों ने बिल्कुल फिल्मी स्टाइल में भागने की योजना बनाई थी. शनिवार की रात करीब दो बजे जब सभी कैदी व बंदी सो गए तो दोनों ने जेल से भागने की तैयारी की.

रात करीब दो बजे दोनों किसी तरह बैरक से बाहर निकल आए और पहले से छिपाकर रखा बांस निकाल लाए. इसके बाद बांस को जोड़कर दीवार पर टिका दिए और रस्सी की मदद से दीवार के ऊपर तक पहुंच गए. दीवार के ऊपर से दोनों ही सैयद बाबा वाली साइड पर उतरकर भाग निकले.

जेल के ही सामने चंद कदमों की दूरी पर रेलवे स्टेशन है दोनों भागकर प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर पहुंचे इस बीच कैदियों के फरार होने की खबर से जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया. जेल के सिपाही भी लाठी डंडे लेकर स्टेशन पहुंचे.

इसी बीच प्लेटफार्म नंबर 3 पर डाउन लाइन पर कानपुर की ओर जाने वाली संगम एक्सप्रेस आ गई जिसमें भाग कर चढ़ने की हड़बड़ाहट में रामानंद निवासी फफूंद औरैया की ट्रेन से कट कर मौत हो गई. दूसरा कैदी चंद्रप्रकाश सफल रहा.

जेल अधीक्षक राज किशोर सिंह ने बताया कि जेल के सुरक्षा कर्मियों की चूक से कैदी भागे हैं. पूरे मामले की जांच की जा रही है. घटना के समय एक हैड कांस्टेबल व एक बंदी रक्षक की उस बेरिक में ड्यूटी थी. सीसीटीवी फुटेज को भी खंगाला जा रहा है. यह भी पता लगाया जाएगा उनके पास बांस और रस्सी कहां से आई.

ये भी पढ़ें- ‘पता नहीं कांग्रेस का अध्यक्ष कौन है बनेगा भी कि नहीं’, बोले राजनाथ सिंह