यूपी पुलिस ने PFI के 8 सदस्यों को किया गिरफ्तार, CAA-NRC के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, "हमें एक सूचना मिली थी और उसी के आधार पर हमने गिरफ्तारी की है. इनसे पूछताछ करने के बाद हमें और भी जानकारी मिलेगी."
Popular Front of India, यूपी पुलिस ने PFI के 8 सदस्यों को किया गिरफ्तार, CAA-NRC के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप

उत्तर प्रदेश पुलिस ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के तीन सदस्यों को लखनऊ में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

इन तीनों पर पीएफआई का प्रचार करने और संगठन की आड़ में लोगों को भड़काने का भी आरोप लगा है. हसनगंज पुलिस ने शकील उर रहमान, शाबी खान और मोहम्मद अरशद को गिरफ्तार किया है.

इसके अलावा यूपी के कानपुर से पीएफआई के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. सूत्रों के मुताबिक, गिरफ्तार ये पांच लोग बिजनौर और बलिया से ‘गंगा यात्रा’ की समाप्ति पर आयोजित कार्यक्रम को बाधित करने की योजना बना रहे थे, जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुख्य अतिथि हैं.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, “हमें एक सूचना मिली थी और उसी के आधार पर हमने इन पांचों को गिरफ्तार किया है. इनसे पूछताछ करने के बाद हमें और भी जानकारी मिलेगी. पीएफआई से उनके संबंध हैं, जिसने दिसंबर में सीएए के खिलाफ हिंसा को भड़काया था, जिसमें तीन लोग मारे गए थे.”

गिरफ्तार लोगों के नाम अभी तक सामने नहीं आए हैं. प्रवर्तन निदेशालय सीएए के विरोध के लिए धन स्त्रोतों का पता लगाने के लिए पीएफआई सदस्यों के बैंक खातों की भी जांच कर रहा है.

दूसरी तरफ, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उन लगभग 75 बैंक खातों को खंगालना शुरू कर दिया है, जिनका उपयोग कथित रूप से उत्तर प्रदेश में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) द्वारा फंडिंग देने के लिए किया गया था.

हाल ही में पीएफआई पर आरोप लगा है कि वह नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध प्रदर्शनों के लिए फंडिंग का काम कर रहा है.

सूत्रों के मुताबिक, ईडी द्वारा प्राप्त बैंक के दस्तावेजों और सबूतों के अनुसार सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान एक दिन में इन खातों से कथित रूप से 90 बार निकासी की गई थी.

ये भी पढ़ें-

Nagrota Encounter: हमले का मास्टरमाइंड निकला पुलवामा अटैक के साजिशकर्ता का भाई

बिहार में शुरू हो गया NRC और NPR का काम, अधिकारी की चिट्ठी ने खोला राज: तेजस्वी यादव

Economic Survey: कमजोर आर्थिक वृद्धि दर, धीमे निवेश से डगमगा रही अर्थव्यवस्था

Related Posts