लाठी से तोड़ी हड्डियां, भाले से कई गहरे घाव: पीलीभीत में ग्रामीणों ने बाघिन को पीट-पीटकर मार डाला

बाघिन और ग्रामीणों की इस भिड़ंत में कई गांववाले भी घायल हुए हैं. 

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पीलीभीत टाइगर रिजर्व में ग्रामीणों ने एक बाघिन को घेर कर उसकी क्रूरतापूर्वक पिटाई की, जिससे घायल होकर बाघिन ने गुरुवार को दम तोड़ दिया. वन विभाग के अधिकारीयों ने 31 नामजद और 12 अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है. आरोपियों पर पशु क्रूरता निवारण अधिनियम 1960 के तहत आरोप लगाए गए हैं. बाघिन और ग्रामीणों की इस भिड़ंत में कई गांववाले भी घायल हुए हैं. 

पीलीभीत टाइगर रिजर्व (PTR) के फील्ड डायरेक्टर राजा मोहन ने इस घटना की पुष्टि करते हुए कहा, “बाघिन पांच साल की थी. देउरिया के पास ग्रामीणों ने उस पर हमला किया. उसका शव गुरुवार सुबह बरामद किया गया था.”

अधिकारी के अनुसार, “बाघिन ने कथित तौर पर PTR के कम्पार्टमेंट नंबर 12 के नजदीक मटैना गांव में एक ग्रामीण पर हमला किया था, उसके बाद ग्रामीणों ने उसके ऊपर बेरहमी से हमला किया. हमले के लगभग तीन घंटे बाद वन अधिकारियों की एक टीम मौके पर पहुंची. उस समय तक बाघिन जंगल के अंदर वापस आ गई थी. वन अधिकारीयों ने चिकित्सा सहायता प्रदान करने के लिए उसे ट्रैक करने की कोशिश की लेकिन वह असफल रहे.” 

पोस्टमार्टम जांच रिपोर्ट आने के बाद ये खुलासा हुआ कि बाघिन को कितनी गंभीर चोटें आईं थीं. पोस्टमार्टम करने वाले पशु चिकित्सक ने बताया, “उसकी अधिकांश पसलियां फ्रैक्चर हो गई थीं और उनमें से चार पसलियां फेफड़ें में घुस गईं थीं. उसके पैरों की हड्डियां टूट गईं थीं और पूरे शरीर पर भाले और नुकीली चीज से किए गए हमले से गहरे घाव हो गए थे.” 

ये भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड्स ने बना डाला 8 लाख का कर्जदार, बेटी को गोद में लेकर छत से कूदा शख्‍स, मौत

ये भी पढ़ें: ‘जो न बोले जय श्री राम उसको भेजो कब्रिस्तान’ गाने वाले सिंगर को पुलिस ने किया गिरफ्तार