युवती के साथ वायरल हुई थी चैट, अब योगी सरकार ने किया सस्पेंड, नोएडा SSP की पूरी कहानी

एसएसपी के सेक्स चैट का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. वायरल विडियो की जांच मेरठ के एडीजी और आईजी को सौंपी गई थी.

गौतमबुद्धनगर के एसएसपी वैभव कृष्ण के खिलाफ सरकारी कागजात लीक करने के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं 5 अन्य IPS भी महत्वपूर्ण पदों से हटाए गए हैं. लेकिन सबसे ज्यादा मामला जो गर्मया हुआ है वो है नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण का संस्पेंशन.

यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया। शासन ने यह कार्रवाई गोपनीय रिपोर्ट को लीक कर आचरण नियमावली के उल्लंघन को लेकर की. खास बात यह है कि वैभव कृष्ण के खिलाफ यह कार्रवाई एक महिला के साथ उनकी चैट के वायरल वीडियो को लेकर फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद की गई है. आइए बताते हैं क्या है वायरल चैट और गोपनीय रिपोर्ट का मामला.

कुछ दिन पहले वैभव कृष्ण की एक महिला के साथ कथित सेक्स चैट का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. वीडियो में महिला नहीं दिख रही थी लेकिन उसके फोन की स्क्रीन की किसी अन्य डिवाइस से रिकॉर्डिंग की गई थी. विडियो वायरल होने के बाद वैभव कृष्ण ने नोएडा सेक्टर पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कराया था. उन्होंने वीडियो को मॉर्फ्ड और एडिटेड करार दिया था और उसे अपनी छवि बर्बाद करने की साजिश करार दिया था.

एसएसपी के सेक्स चैट का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. वायरल विडियो की जांच मेरठ के एडीजी और आईजी को सौंपी गई थी. उन्होंने जांच के दौरान वीडियो को फॉरेंसिक जांच के लिए गुजरात की लैब में भेजा था. फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट में चैट का वीडियो सही पाया गया, जबकि एसएसपी ने दावा किया था कि वीडियो फर्जी है. फॉरेंसिक रिपोर्ट के ठीक बाद वैभव कृष्ण को सस्पेंड कर दिया गया.

महिला के साथ कथित सेक्स चैट वायरल होने के बाद वैभव कृष्ण ने न सिर्फ FIR दर्ज कराई, जबकि प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दी कि यह उनकी छवि खराब करने की साजिश है. उन्होंने पांच आईपीएस अफसरों का नाम लेते हुए उन पर पोस्टिंग के लिए रिश्वत लेने समेत भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामलों में उनकी कार्रवाई से नाराज अफसरों ने एडिटेड विडियो वायरल किया है.

नोएडा का चार्ज लेते ही वैभव कृष्ण ने अग्निशमन-होमगार्ड विभाग के बड़े अफसरों, पुलिस और पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई की थी। आरोप है कि इसी के बाद उनका विरोध शुरू हो गया था. इसके बाद सोशल मीडिया पर वैभव कृष्ण के तीन कथित आपत्तिजनक विडियो वायरल हुए थे. उन्होंने नोएडा सेक्टर-20 थाने में इसकी रिपोर्ट दर्ज करवाकर आईजी रेंज (मेरठ) से इसकी जांच करवाने की अपील की थी.

एसएसपी वैभव कृष्ण के मुताबिक, उन्होंने एसएसपी (गाजियाबाद) सुधीर कुमार सिंह, एसपी (सुलतानपुर) हिमांशु कुमार, एसएसपी (एसटीएफ) राजीव नारायण मिश्र, एसपी (बांदा) गणेश साहा और एसपी (रामपुर) डॉ. अजय पाल शर्मा के खिलाफ जांच रिपोर्ट भेजी थी. एसएसपी ने साजिश के लिए इन्हीं अफसरों पर आरोप लगाए थे.