जन्माष्टमी पर लाइट जाने से CM योगी आदित्यनाथ नाराज, STF को सौंपी मामले की जांच

बुधवार को जन्माष्टमी (Janmashtami) के दिन कई जिलों की बिजली (Electricity) चली गई, लेकिन घरों में लगे स्मार्ट मीटर चालू थे. जिन क्षेत्रों में बिजली बंद हुई उनमें प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री (Energy Minister) के क्षेत्र आते हैं.
STF check for electricity in UP, जन्माष्टमी पर लाइट जाने से CM योगी आदित्यनाथ नाराज, STF को सौंपी मामले की जांच

उत्तर प्रदेश (UP) में जन्माष्टमी (Janmashtami) के दिन राजधानी लखनऊ ,गोरखपुर, वाराणसी, मथुरा और मेरठ समेत कई जिलों में बिजली गुल हो जाने के मामले की जांच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने STF को सौंपी है. उन्होंने दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

मुख्यमंत्री ने अपने जारी बयान में कहा कि कल कई क्षेत्रों में बिजली उपभोक्ताओं (Electricity Consumers) की बाधित पॉवर सप्लाई के मामले की जांच STF से कराए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि जांच में अगर कोई दोषी मिले तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.

अचानक कई जिलों की लाइट जाने से मच गया था हड़कंप

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा (Shrikant Sharma) ने इस घटना की जांच STF से कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र था, जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दिए हैं. मालूम हो कि बुधवार को अचानक कई जिलों की बिजली चली गई लेकिन घरों में लगे स्मार्ट मीटर चालू थे. जिन क्षेत्रों में बिजली बंद हुई उनमें प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री (Energy Minister) के क्षेत्र आते हैं. इससे जिलों में हड़कंप मच गया.

लखनऊ (Lucknow) में कई सब-स्टेशनों पर उपभोक्ता इकट्ठा हो गए और हंगामा करने लगे, वहीं शक्ति भवन (Shakti Bhavan) में अफरातफरी मच गई. आला अधिकारी (Top officials) शक्ति भवन में डटे रहे और टेक्निकल गड़बड़ी ठीक कर पॉवर सप्लाई कराने की कोशिश करते रहे.

EESL के स्टेट हेड और L&T के प्रोजेक्ट मैनेजर सस्पेंडेड

यह गड़बड़ी पॉवर कॉर्पोरेशन के शक्ति भवन मुख्यालय से हुई थी. ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पॉवर कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष अरविंद कुमार (Arvind Kumar) को जांच कर 24 घंटों में रिपोर्ट दी है. साथ ही जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश भी दिए हैं. स्मार्ट मीटर का काम देख रही EESL के स्टेट हेड और L&T के प्रोजेक्ट मैनेजर को देर रात सस्पेंड  कर दिया गया है.

दरअसल, प्रदेशभर में 10 लाख से ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी कंज्यूमर्स के यहां स्मार्ट मीटर लगे हैं. शक्ति भवन मुख्यालय में बने कंट्रोल रूम में लगे सर्वर से स्मार्ट मीटर पर प्राइवेट कंपनी L&T और EESL द्वारा नजर रखी जाती है. बुधवार दोपहर बाद लगभग तीन बजे राज्य के लाखों स्मार्ट मीटर से बिजली आपूर्ति ठप हो गई जबकि विद्युत उपभोक्ताओं का न बिल बकाया था और न ही देय तारीख (Due Date) बीती थी. (IANS)

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts