दिल्ली के एक आदर्श गांव को लेकर सांसद से भिड़ीं ‘धाकड़ लड़कियां’, देखें वीडियो

दिल्ली के एक गांव के लिए सांसद से भिड़ीं धाकड़ लड़कियां. सांसद के पास नहीं था इनके सवालों का कोई जवाब. सांसद ने धाकड़ लड़कियों का कराया घेराव. देखिए पूरी रिपोर्ट...

नई दिल्ली. TV9 भारतवर्ष के स्पेशल प्रोग्राम ‘धाकड़ लड़कियां’ में लड़कियों ने दक्षिण दिल्ली के भट्टी कलां गांव का दौरा किया. इस गांव को सांसद रमेश बिधूड़ी ने सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद ले रखा है. धाकड़ लड़कियां यहां पिछले पांच साल में हुए कामों का जाएजा लेने पहुंची, तो गांव वालों ने बताया कि यहां पानी दिन में सिर्फ 10 मिनट के लिए ही आता है. लड़कियों ने जब ये सवाल सांसद रमेश बिधूड़ी के सामने रखा तो वह भड़क गए और खराब भाषा में बात करने लगे. साथ ही उनके समर्थकों ने लड़कियों का घेराव कर नारेबाजी की.

गांव गोद लेकर सांसद ने की महज रस्म अदायगी

‘धाकड़ लड़कियों’ ने जब गांव पहुंचकर लोगों से बात की तो मालूम चला कि गांव की हालत खस्ता है. पूछे जाने पर कि पिछले पांच सालों में सांसद ने क्या-क्या सुविधाएं महैया कराई,  एक महिला ने बताया कि “कोई सुविधा नहीं है. पानी सिर्फ 10 मिनट आता है. दिनभर के काम के लिए पानी ढोते हैं दूर-दूर से.” एक शख्स ने बताया कि “पिछले पांच साल में गांव और पीछे चला गया है.  वो(सांसद) बड़े आदमी हैं, उनके सामने कोई नहीं बोलेगा.” वहीं एक महिला ने बताया कि गांव में 12वीं के बाद पढ़ाई करने के लिए कोई कॉलेज नहीं है.

सवालों से परेशान हुए सांसद

लड़कियां जब सांसद से सवाल-जवाब करने पहुंची तो सांसद ने उनकी बात सुनने से ही इनकार कर दिया. लड़कियों ने शिक्षा को लेकर सवाल किया तो सांसद का जवाब था कि जिस दिन केजरीवाल से निजात मिल जाएगी उस दिन यहां बहुत कुछ हो जाएगा. आगे सवाल करने पर सांसद भड़क गए और अजीब आवाज निकालने लगे. साथ ही सांसद ने लड़कियों के संस्कार पर भी सवाल खड़े किये.

करवा दिया ‘धाकड़ लड़कियों’ का घेराव

इसके बाद भड़के सांसद के समर्थकों ने लड़कियों का घेराव किया और उनके खिलाफ नारेबाजी की. लड़कियों को सवालों का सही जवाब नहीं मिला. एक जनप्रतिनिधि से ऐसे ख़राब व्यवहार की उम्मीद नहीं की जा सकती.

सांसद के आने के बाद शिकायत करने वाले लोगों ने भी बाते बदल दी. ये दिखता है कि लोगों में नेता का कितना खौफ है. ये बर्ताव सभी को चुनाव से पहले एक बार सोचने को मजबूर करता है.