भुखमरी के कगार पर पड़ोसी मुल्‍क, हर दस में चार पाकिस्‍तानी गरीब

जब तक इमरान खान की सरकार अपने कार्यकाल के दो साल पूरे करेगी, तब तक 1.8 करोड़ से ज्यादा लोग गरीबी रेखा के नीचे चले जाएंगे.

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) सरकार के दो साल पूरे होने पर 1.8 करोड़ से ज्यादा लोग गरीबी रेखा के नीचे चले जाएंगे. ऐसा कम आर्थिक वृद्धि और खाद्य महंगाई के दो अंकों में होने की वजह से है. यह दावा देश के जाने-माने अर्थशास्त्री, पाकिस्तान के पूर्व वित्त मंत्री व प्रधानमंत्री इमरान खान के पूर्व सलाहकार हाफिज ए. पाशा ने किया है.

पाशा ने कहा कि PTI सरकार के पहले साल के समाप्त होने तक 80 लाख लोग पहले ही गरीबी की श्रेणी में चले गए हैं. उन्होंने अनुमान जाहिर किया कि और एक करोड़ से ज्यादा लोग वर्तमान वित्त वर्ष के समाप्त होने पर गरीबी रेखा से नीचे चले जाएंगे.

पाशा ने ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ से बातचीत में कहा, “(बेहद कम) आर्थिक वृद्धि दर व नष्ट होने वाले खाद्य पदार्थो की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि की वजह से स्थिति बहुत भयावह है. आर्थिक वृद्धि दर का हाल तो यह है कि यह देश की जनसंख्या दर के समान हो गई है.”

योजना व विकास के संघीय मंत्री असद उमर से जब इस बारे में उनकी प्रतिक्रिया के लिए संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा, “हमारे पास गरीबी के नवीनतम आधिकारिक आंकड़े नहीं हैं.” उमर ने कहा कि PTI सरकार ने गरीबी उन्मूलन के उपायों को तेज किया है, जिसका मकसद व्यापक अर्थिक समायोजन के प्रतिकूल प्रभाव से गरीबों और कमजोर लोगों की रक्षा करना है.

पाशा ने कहा कि सरकार द्वारा करों में वृद्धि, ऊर्जा शुल्क में वृद्धि और मुद्रा के अवमूल्यन ने गरीबी बढ़ाने का काम किया है. पाशा के अनुसार, अगले साल जून तक दस पाकिस्तानियों में से चार गरीब होंगे. (IANS)

ये भी पढ़ें

अमेरिका में ब्लैकलिस्टेड हुआ पाकिस्तान का एसएसपी, पढ़ें – कौन है 400 लोगों का कातिल राव अनवर खान

भरी सभा में पाकिस्‍तानी मंत्री ने अपने देश के विदेश मंत्रालय को कर डाला बेइज्‍जत

Related Posts