18 घंटे बर्फ में दबी लड़की जिंदा निकली, PoK में हिमस्खलन से मौतों का आंकड़ा 100 पार

पीओके में करीब 18 घंटे तक बर्फ में दबे रहने के बाद एक लड़की को जिंदा बचा लिया गया. लड़की सहित सैकड़ों लोग बर्फ के नीचे दब गए थे. जिनमें से कुछ को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया. फिलहाल सभी का इलाज मुजफ्फराबाद स्थित अस्पताल में जारी है.

पाकिस्‍तानी कब्‍जे वाले कश्मीर (PoK) में भारी हिमस्खलन के कारण हालात बद से बदतर हो रहे हैं. इस बीच पीओके में करीब 18 घंटे तक बर्फ में दबे रहने के बाद एक लड़की को जिंदा बचा लिया गया. लड़की सहित सैकड़ों लोग बर्फ के नीचे दब गए थे. जिनमें से कुछ को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया. फिलहाल सभी का इलाज मुजफ्फराबाद स्थित अस्पताल में जारी है.

12 साल की समीना के मुताबिक, ‘जैसे ही बर्फ खिसकने लगी, मैं मदद के लिए चिल्लाने लगी.’ पाकस्तानी अधिकारियों के अनुसार, सबसे ज्यादा नुकसान नीलम घाटी में हुआ है जहां मौत का आकंड़ा 74 तक पहुंच गया है. अभी भी रेस्कयू ऑपरेशन जारी है.

समीना ने कहा, ये आपदा बहुत तेजी से आई. हमने एक भी आवाज नहीं सुनी. हिमस्खलन ने हमारे तीन मंजिला घर को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया जहां परिवार के साथ गांव के बाकी लोग मौजूद थे. उनमें से कम से कम 18 की मौत हो गई.

100 से ज्‍यादा की मौत

पाकिस्तान के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन मैनजमेंट के मुताबिक हिमस्खलन में अभी तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. और आने वाले दिनों में और भारी हिमस्खलन आने की संभावना है.

वहीं समीना ने बर्फ के अंदर अपनी आपबीती सुनाई. उसने कहा कि, वो बर्फ के अंदर मदद का इंतजार कर रही थी, नींद उड़ चुकी थी, पैर फ्रैक्चर हो गया और मुंह से खून की उल्टियां होने लगी थी. समीना की मां ने बताया कि, हम लोग उस समय आग सेंक रहे थे जब हिमस्खलन हुआ, ये एक पल में हुआ हमें कुछ पता नहीं चला और हमारे पड़ोस के एक घर में सभी 18 लोग बर्फ में दबकर मर गए.

समीना की मां शहनाज बीबी के लिए जिसने एक बेटे और एक दूसरी बेटी को खो दिया, समीना का बचाव किसी चमत्कार से कम नहीं था, बर्फ से बाहर निकाले जाने के बाद, शहनाज ने कहा कि उसने और उसके भाई इरशाद अहमद ने समीना को जिंदा ढूंढने की उम्मीद छोड़ दी थी.

ये भी पढ़ें-    यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

आतंक पर लगाम के लिए अमेरिका जैसा एक्शन लेना होगा, Raisina Dialogue में बोले CDS जनरल बिपिन रावत