40 फीसदी मरीज बिना Covid-19 लक्षण वाले, इन्हीं से जीती जाएगी जंग!

दुनियभर में कोरोनावायरस (corona news) के मरीजों की संख्या 1,98,06,282 हो चुकी है. लेकिन कोरोना के कुल मरीजों में से 40 प्रतिशत में लक्षण (asymptomatic corona) नहीं है. इनसे ही कोई तोड़ निकल सकता है.

कोरोनावायरस महामारी की शुरुआत कहां से हुई और इसका अंत आखिर कैसे होगा इन सवालों के बीच एक राहत की खबर है. दुनियाभर में कोरोना ने जितने लोगों को चपेट में लिया है उसमें से 40 प्रतिशत लोग बिना लक्षण वाले हैं, एक्सपर्ट मानते हैं कि इन्हीं से कोरोना के खात्मे का कोई तरीका निकलेगा.

इस बात पर ताजा भरोसा अमेरिका की साइंटिस्ट मोनिका गांधी ने जताया है. वह सैन फ्रैंसिस्को की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया में इंफेक्शन डिसिज स्पेशलिस्ट हैं. मोनिका कहती हैं कि बिना लक्षण वाले मरीजों का बड़ी संख्या में होना अच्छी बात है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

मोनिका ने पाया कि बॉस्टन के होमलेस शेल्टर में 147 कोरोना संक्रमित पाए गए थे. लेकिन उनमें से 88 प्रतिशत में लक्षण नहीं थे. ऐसे ही मामला एक दूसरी जगह मिला. वहां 481 संक्रमित थे लेकिन 95 प्रतिशत में कोई लक्षण नहीं था. अर्कांसस, नॉर्थ कैरोलिना, ओहियो, वर्जीनिया की जेलों में कुल मिलाकर 3,277 कोरोना मरीज मिले थे लेकिन 96 प्रतिशत में कोई लक्षण नहीं था. वॉशिंगटन पोस्ट की खबर के मुताबिक, इसपर मोनिका ने कहा कि कोरोना लक्षणों का ना होना यह लोगों और समाज के लिए अच्छी बात है.

40 प्रतिशत लोगों में लक्षण नहीं
कोरोना पर जारी रिसर्च के बीच यह भी सामने आया है कि इसका असर बच्चों पर कम ह. ज्यादा मरीजों में या तो कोई लक्षण नहीं है या फिर सामान्य लक्षण हैं. ऐसे मरीजों की संख्या 40 फीसदी है जिसे उम्मीद की किरण के रूप में देखा जा रहा है.

मास्क का कितना रोल इसपर भी खोज
अब वैज्ञानिक कोरोनावायरस की वैक्सीन के साथ-साथ इसको लेकर दूसरी रिसर्च में भी जुट गए हैं. जैसे कोरोना बॉडी में जिस सेल्स के लिए फैलता है उसपर स्टडी हो रही है. पता लगाया जा रहा है कि उम्र और बॉडी जीन भी क्या यह तय करते हैं कि वायरस कितना अटैक करेगा. यह भी देखा जा रहा है कि क्या मास्क लगाने की वजह से ही लोगों में मामूली या बिना लक्षण वाला कोरोना हो रहा है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts