अबु बक्र अल-बगदादी को अमेरिका के डेल्‍टा कमांडोज ने कैसे घेरकर मारा, ये है पूरी कहानी

डेल्‍टा फोर्स के 70 कमांडोज को बगदादी को ढूंढकर मार गिराने का जिम्‍मा सौंपा गया था. इस पूरे ऑपरेशन को 'जैकपॉट' कोडनेम दिया गया था.

आतंक का दूसरा नाम बन चुका अबु बक्र अल-बगदादी (Abu Bakr al-Baghdadi) मारा गया. सीरिया के इडलिब प्रांत में उसकी लोकेशन मिली थी. अमेरिका की डेल्‍टा फोर्स ने सरप्राइज अटैक प्‍लान किया और बगदादी को घेर लिया. कोई रास्‍ता ना देख बगदादी ने खुद को उड़ा लिया.

पूरे ऑपरेशन की डिटेल्‍स सामने आई हैं जो बताती हैं कैसे इस मिशन को अंजाम दिया गया है. इस पूरे ऑपरेशन को ‘जैकपॉट’ कोडनेम दिया गया था. 2011 में ओसामा बिन लादेन के खिलाफ एबटाबाद में जो ऑपरेशन चला था, उसे भी ‘जैकपॉट’ ही नाम दिया गया था.

डेल्‍टा फोर्स के 70 कमांडोज को बगदादी को ढूंढकर मार गिराने का जिम्‍मा सौंपा गया था. खुद राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप व्‍हाइट हाउस में बैठकर पूरे मिशन की लाइव फुटेज देख रहे थे. ‘बीरिशा’ नाम के गांव में जब कमांडोज पहुंचे तो गांववालों को समझ आ चुका था कि ये आम गोलीबारी नहीं है.

How Abu Bakr al-Baghdadi Was Kiiled?

बगदादी के ठिकाने को अमेरिकी हेलिकॉप्‍टर्स ने चारों तरफ से घेर लिया था. विभिन्‍न मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कमांडोज को एयरड्रॉप किया गया. उनके पास ट्रेन्‍ड डॉग्‍स और एक रोबोट भी मौजूद था. ये रोबोट किसी भी तरह के आत्‍मघाती हमले का सामना कर सकता है. वो गुफानुमा बंकर अब कमांडोज की नजरों के सामने था, जिसमें बगदादी छिपा बैठा था. इसी बंकर में बैठकर बगदादी दुनिया में आतंक फैलाने का प्‍लान बनाता था.

गुफा का दरवाजा खोलने में यह खतरा था कि कहीं आतंकियों ने विस्‍फोटक ना लगा रखे हों. डेल्‍टा कमांडोज ने गुफा की एक दीवार उड़ाई. भीतर बगदादी की दो बेगमें मिलीं जिनकी कमर पर विस्‍फोटक बंधे थे. उन्‍होंने विस्‍फोट नहीं किया मगर अमेरिकी कमांडोज पर फायरिंग की. जवाबी कार्रवाई में दोनों मारी गईं. अब तक कमांडोज बगदादी के अधिकतर लड़ाकों को खत्‍म कर चुके थे.

कमांडोज हर कमरा तलाश रहे थे. टीम में अरबी बोलने वाला एक शख्‍स था. उसने बगदादी से सरेंडर करने को कहा. डेल्‍टा कमांडोज हर वो रास्‍ता तलाश रहे थे जिससे बाहर निकाला जा सके. जो आतंकी बच गए थे, उन्‍होंने सरेंडर करने में ही भलाई समझी. गुफा खाली कराने के बाद कमांडोज ने अपने कुत्‍तो को साथ लेकर बगदादी का पीछा शुरू किया.

बगदादी अपने तीन बच्‍चों को साथ लेकर भाग रहा था. जब उसे लगा कि अब वह नहीं बचेगा तो कमर में बंधी विस्‍फोटकों की बेल्‍ट में धमाका कर दिया. उसके तीनों बच्‍चे भी मारे गए. कमांडोज ने लाश का फील्‍ड-किट के जरिए डीएनए टेस्‍ट किया. बगदादी की पहचान पुष्‍ट होते ही अमेरिककी सैनिकों ने व्‍हाइट हाउस से कहा, “100 पर्सेंट कॉन्फिडेंस जैकपॉट. ओवर.”

ये भी पढ़ें

अबु बक्र अल-बगदादी: धर्म के नाम पर हजारों जिंदगियां तबाह कीं, बन बैठा था आतंक का ‘खलीफा’

जब अमेरिकी कुत्‍तों ने बगदादी को दौड़ाया, वो रोता-चीखता भागा और फिर…, VIDEO