मिसाल: बेटियों की शिक्षा के लिए इस पिता ने समर्पित कर रखा है जीवन

अफगानिस्तान के मिया खान की कहानी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

अफगानिस्तान के एक पिता की कहानी सोशल मीडिया पर लोगों का दिल जीत रही है. पक्तिका प्रांत में रहने वाले मिया खान की कहानी एक एनजीओ स्वीडिश कमिटी ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर की है जहां से ये वायरल हो गई. स्वीडिश कमिटी फॉर अफगानिस्तान ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा है ‘एक पिता जो अपनी बेटियों की शिक्षा को अपनी जिम्मेदारी मानता है.’

दरअसल मिया खान अपनी बेटियों को लेकर रोज़ बाइक से 12 किलोमीटर दूर स्कूल जाते हैं. फिर वहां उनका स्कूल खत्म होने का इंतजार करते हैं ताकि वह उन्हें घर ले जा सकें. यह मिया खान की रोज की दिनचर्या है. एनजीओ ने ब्लॉग का लिंक भी शेयर किया है जिसके मुताबिक मिया खान की तीन बेटियां हैं. वो इन्हें अच्छी शिक्षा दिलाना चाहते हैं. मिया खान ने कहा:

“मैं अनपढ़ हूं और दिहाड़ी मजदूरी करके अपना समय काट रहा हूं लेकिन मेरी बेटियों का शिक्षित होना मेरे लिए बहुत जरूरी है. हमारे इलाके में कोई महिला चिकित्सक नहीं है. बेटों की तरह अपनी बेटियों को शिक्षित करना मेरा सबसे बड़ा सपना है.”

#16DaysOfActivisimA father who considers educating his daughters a dutyA resident of central Sharana of Paktika…

Swedish Committee for Afghanistan यांनी वर पोस्ट केले सोमवार, २ डिसेंबर, २०१९

मिया खान के एक बेटी रोजी बताती है ‘मैं 6वीं क्लास में हूं और बहुत खुश हूं कि पढ़ाई कर रही हूं. मेरे पापा और भाई हमें मोटरसाइकिल से रोज स्कूल लाते हैं और क्लास खत्म होने के बाद वापस घर ले जाते हैं.’ अब मिया खान की कहानी दुनिया जानती है. लोग उन्हें एक हीरो बता रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

जानिए, लंदन के होटल को कितना महंगा पड़ा एक सिख को जॉब से मना करना
समंदर किनारे मिली Whale की लाश, पेट से निकला 100 किलो प्लास्टिक और कचरा