अल कायदा का पोस्टर बॉय था हमजा, तैयार कर रहा था आतंक की यंग ब्रिगेड

2015 तक हमजा को अल कायदा की प्रोपेगेंडा विंग अस-साहब द्वारा जिहादी मूवमेंट के अहम हिस्से के तौर पर पेश किया जाता था.

नई दिल्ली: हमजा के मारे जाने की पुष्टि अमेरिका ने आधिकारिक तौर पर भले ही नहीं की है लेकिन तीन वरिष्ठ अधिकारियों का ये कबूलना की सबसे खूंखार आतंकी संगठन अल कायदा का वारिस मारा गया है, वाकई में एक बड़ी खबर है. ये इसलिए भी बड़ी खबर है क्योंकि अल कायदा हमजा को युवा पीड़ी के जिहादी के तौर पर पेश करता आया है. अल कायदा हमजा को पोस्टर बॉय बना युवाओं को आतंक के रास्ते पर लाने के मंसूबे पालता रहा है.

2015 तक हमजा को अल कायदा की प्रोपेगेंडा विंग अस-साहब द्वारा जिहादी मूवमेंट के अहम हिस्से के तौर पर पेश किया जाता था. अस-साहब की तरफ से हमजा के ऑडियो मैसेज रिलीज किए जाते थे, जिसमें वह अमेरिका को धमकाता था, सऊदी सरकार को उखाड़ फेंकने और सीरिया में जिहाद के महत्व को उजागर करने वाले अन्य विषयों पर संदेश जारी करता था.

बहुत दिन से नहीं जारी किया कोई ऑडियो मैसेज

अल कायदा बार-बार हमजा का ऑडियो रिलीज करता रहा, लेकिन आतंकी संगठन ने उसके वयस्क के रूप में कोई भी फोटो जारी नहीं की है. इसके बजाय, अस-साहब ने हमजा के केवल ऑडियो रिकॉर्डिंग जारी की, जो अन्य जिहादी व्यक्तित्वों की तस्वीरों के साथ वीडियो में एम्बेडेड होते थे. अल कायदा ने उसकी नई तस्वीर जारी नहीं की गई, उनका मानना है कि ऐसा करने से उनकी सुरक्षा को खतरा हो सकता है.

हमजा अल कायदा का सरगना या प्रमुख नहीं था, लेकिन उसे इस संगठन की कमान सौंपने के लिए पूरी तरह से तैयार किया जा रहा था. साल 2018 में आखिरी बार देखे गए हमजा ने पिछले कुछ महीनों से कोई ऑडियो संदेश जारी नहीं किया है.

हालांकि, अल कायदा की नवा-ए-अफगान मैग्जीन में मई महीने में हमजा के हवाले से एक लेख छपा था. उस लेख में, हमजा ने जिहाद को पुनर्जीवित करने और अमेरिका से लड़ाई लेने के लिए अपने पिता की प्रशंसा की थी. उसने ओसामा बिन लादेन की मौत का बदला लेने के लिए फिर से जिहादियों को बुलाया था.

ये भी पढ़ें: मारा गया ओसामा बिन लादेन का बेटा और अल कायदा का वारिस हमजा