7 साल से फ्रांस सरकार को रुला रहा था खून के आंसू, North Africa में अलकायदा का कमांडर ढेर

अब्देल उत्तरी अफ्रीका में अपने संगठन अल-इस्लाम-वल-मुसलमीन यानी की जेएनआईएम (JNIM) के जरिए काम करता था. ये संगठन AIQM का सहयोगी संगठन है. अब्देल इस संगठन के जरिए माली, बुर्किना फासो समेत आस-पास के देशों में आतंक की नई कहानी लिख रहा था.
Al Qaeda North Africa commander killed in operation by France Security Forces, 7 साल से फ्रांस सरकार को रुला रहा था खून के आंसू, North Africa में अलकायदा का कमांडर ढेर

फ्रांस के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को घोषणा की है कि फांसीसी सैनिकों ने अल-कायदा के उत्तरी अफ्रीका (North Africa) के सरगना लीडर अब्देलमलिक ड्रोकडेल (Abdelmalek Droukdel) को मार गिराया है. मंत्रालय ने कहा है कि फ्रांस (France) को पिछले एक साल में जिहादियों के खिलाफ लड़ाई में ये बड़ी कामयाबी मिली है, हालांकि आतंकी संगठन अल-कायदा (Al-Qaeda) की तरफ से अपने आतंकी की मौत की पुष्टि नहीं की गई है.

AIQM (Al-Qaeda) के नाम से मशहूर इस आतंकी संगठन ने कई सालों में फिरौती और अपहरण के जरिए लाखों डॉलर कमाए और पश्चिमी अफ्रीका में भी कई खतरनाक संगठन को मजबूती देने के लिए काम कर रहा है. फ्रांस के रक्षामंत्री फ्लोरेंस पर्ली (French Defense Minister Florence Parly) ने कहा कि 3 जून को हमारी सेना ने स्थानीय सुरक्षाबलों के साथ मिलकर आतंकी अब्देल के ठिकानों पर हमला बोला.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

ये उत्तरी अल्जीरिया (North Algeria) के पहाड़ी इलाके में मौजूद थे. रक्षामंत्री ने ये भी कहा कि ऑपरेशन में अब्देल और अल-कायदा से जुड़े कई आतंकी मारे गए हैं. फ्रांस के सुरक्षाबल अब्देल को पिछले कई सालों से तलाश कर रहे थे. अब्देल की मौत की खबर उस समय आई है जब फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों और मॉरिटानिया, माली, बुर्किना फासो, नाइजर और चाड जी 5 साहेल समूह ने क्षेत्र में आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई के लिए नई योजना शुरु की.

जेएनआईएम के जरिए करता था काम

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अब्देल उत्तरी अफ्रीका में अपने संगठन अल-इस्लाम-वल-मुसलमीन यानी की जेएनआईएम (JNIM) के जरिए काम करता था. ये संगठन AIQM का सहयोगी संगठन है. अब्देल इस संगठन के जरिए माली, बुर्किना फासो समेत आस-पास के देशों में आतंक की नई कहानी लिख रहा था. अल्जीरिया की अदालत ने 2012 में उसे मौत की सजा सुनाई थी, अब्देल ने कई आतंकी हमलों को अंजाम दिया था. अल्जीरिया में 2007 में हुए बम धमाकों के पीछे उसी का हाथ था.

यह स्पष्ट नहीं था कि अल्जीरिया के दक्षिणी पड़ोसी माली में ड्रोकडेल कितने वक्त से था. ऐसा माना जाता रहा है कि वो अल्जीरिया की राजधानी काबेल के क्षेत्र में था, जो कि उसकी जन्मभूमि थी. हालांकि कई बार ये सवाल उठाए गए कि अल्जीरियाई सुरक्षाबलों ने उसे क्यों निशाना नहीं बनाया.

अलकायदा का उत्तरी अफ्रीका का कमांडर था अब्देल

उसे मुख्य तौर पर अल कायदा की उत्तरी अफ्रीकी विंग के प्रतीक के तौर पर देखा जाता था. उसने अपने आतंकी संगठन का केंद्र एक दशक में उत्तर माली में बना लिया था. उसने 2013 में फ्रांसीसी सुरक्षाबलों पर किए गए हमले का नेतृत्व किया. ड्रोकडेल ने अल्जीरिया में 1990 के शुरुआत में एक खतरनाक आतंकी के रूप में अपनी पहचान बनाई.

इस दशक को अल्जीरिया का काला दशक कहा जाता है. 2007 में अल्जीरिया में संयुक्त राष्ट्र की इमारत को निशाना बनाने, विस्फोटकों के वाहनों को ध्वस्त करने, अल्माडिया में कई घातक आत्मघाती हमलों की जिम्मेदारी का दावा ड्रोकडेल करता रहा है. उसे डी गुर्रे अबू मुसाब अब्दुल वद्दू भी कहा जाता था. हाल ही में वह उत्तरी अफ्रीका और साहेल में अलकायदा और जेएनआईएम की कमान संभाल रहा था, जिसने यूएन शांतिरक्षकों पर खतरनाक हमले की जिम्मेदारी ली है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts