कौन हैं ब्रिटेन के नए PM Boris Johnson, पढ़ें पत्रकार से प्रधानमंत्री बनने का सफर

ब्रिटेन में कंजर्वेटिव पार्टी ने जीत हासिल की है और बोरिस जॉनसन प्रधानमंत्री बने हैं, जानिए उनका भारत से क्या है कनेक्शन.

ब्रिटेन में 650 सीटों वाली संसद में सरकार बनाने के लिए 326 सीटों की जरूरत होती है. कंजर्वेटिव पार्टी ने इस आंकड़े को पार कर लिया है और प्रधानमंत्री Boris Johnson को 363 सीटें मिल सकती हैं. बोरिस जॉनसन ने कहा है कि उन्हें अब स्पष्ट जनादेश मिला है, अब वे ब्रेक्जिट(ब्रिटेन को यूरोप यूनियन से अलग करना) लागू कर सकेंगे. नए जनादेश के साथ प्रधानमंत्री बनने वाले बोरिस जॉनसन कौन हैं, आइए जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें.

पत्रकारिता से की करियर की शुरुआत

19 जून 1964 को न्यू यॉर्क के एक उच्च मध्य वर्गीय परिवार में जन्मे बोरिस जॉनसन के पिता कोलंबिया यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्र पढ़ाते थे. बोरिस ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने के बाद पत्रकारिता में कदम रखा. 1987 में मोस्टिन ओवेन (Mostyn-Owen) से उनकी शादी हुई और इसी साल उन्होंने The Times में ट्रेनी के तौर पर नौकरी शुरू की. आगे जाकर The Daily Telegraph में पूरे पत्रकार बन गए.

विवादों के लिए मशहूर

बोरिस जॉनसन ने पत्रकार, सांसद, मेयर, विदेश मंत्री से होते हुए प्रधानमंत्री बनने तक का सफर तय किया है. उससे पहले पत्रकारिता में भी सीधा संबंध राजनैतिक लेखन से ही रहा. यानी बोरिस राजनीति के पके चावल हैं. ब्रिटेन की सियासत में वे एक दिलचस्प शख्सियत हैं और उनके बारे में कहा जाता है कि उन्हें ‘न’ सुनना पसंद नहीं है. मिलनसार व्यक्तित्व के स्वामी बोरिस जॉनसन अपने विवादित कार्यों और भाषणों की वजह से भी अक्सर चर्चा में रहते हैं.

हाल ही में एक टीवी शो के रिपोर्टर ने उनसे बात करने की कोशिश की और उनसे शो में आने का वादा पूरा करने को कहा तो वे उसे इग्नोर करते हुए बड़े साइज के फ्रिज में घुस गए थे. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था. दक्षिणपंथी विचारधारा की राजनीति में झुकाव रखने वाले बोरिस ने ब्रिटेन के यूरोपियन यूनियन से अलग होने का प्रतिनिधित्व किया.

2004 में बोरिस ने The Spectator  नाम की पत्रिका में एक लेख लिखा था. लेख में इराक में बंदी बनाए गए ब्रिटिश नागरिक केन बिगले की हत्या पर लिवरपूल के लोगों की प्रतिक्रिया पर कड़ी आलोचना की थी. उन्हें इस लेख के लिए लिवरपूल के लोगों से माफी मांगनी पड़ी थी. 2004 में अपने लव अफेयर को छिपाने के आरोप में कंजर्वेटिव पार्टी से निकाल दिया गया था. वे दो बार लंदन के मेयर बन चुके हैं. पहली बार मेयर बनते ही उन्होंने सार्वजनिक वाहनों में शराब ले जाने पर बैन लगा दिया था.

बोरिस जॉनसन और भारत

Story of new UK Prime minister Boris Johnson, कौन हैं ब्रिटेन के नए PM Boris Johnson, पढ़ें पत्रकार से प्रधानमंत्री बनने का सफर

बोरिस जॉनसन के प्रधानमंत्री बनने पर पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें बधाई दी है. ये तो हुई राजनीति की बात, लेकिन बोरिस का भारत से रिश्ता ज़रा पर्सनल है. उनकी दूसरी पत्नी रहीं(2018 में तलाक) मरीना व्हीलर (Marina Wheeler) की मां दीप व्हीलर भारतीय मूल की हैं. दीप व्हीलर सिख परिवार से हैं. 54 साल की मरीना के साथ 25 साल बिताने के बाद बोरिस पिछले साल सितंबर में अलग हो गए थे. साथ रहने के दौरान बोरिस पत्नी के साथ कई बार भारत आए थे.

ये भी पढ़ें:

पत्रकार के सवालों से बचने के लिए फ्रिज में घुस गए UK PM Boris Johnson