महज तीन घंटे, तीन मिनट… और पहुंच गए स्‍पेस स्टेशन

तीनों अंतरिक्ष यात्री अपनी यात्रा से पहले मास्को के बाहर स्टार सिटी ट्रैनिंग फैसेलिटी में क्वारंटीन भी रहे थे, ताकि कोरोना से संक्रमित होने का कोई खतरा न हो. ये लोग अंतरिक्ष स्टेशन में छह महीने तक रहेंगे.

NASA (ट्विटर)

तीन अंतरिक्ष यात्रियों को पहली पार एक ऐसी तकनीक से अंतरिक्ष में भेजा गया है, जिससे वो महज 3 घंटे में ही अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पहुंच गए हैं. NASA के केट रूबिंस को बुधवार सुबह कजाखस्तान के बैकोनूर स्पेस सेंटर से दो साथियों के साथ अंतरिक्ष में भेजा गया. ये पहली बार था जब अंतरिक्ष यात्रा के लिए दो ऑर्बिट, तीन घंटे का एप्रोच रखा गया. इससे पहले अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन तक अंतरिक्ष यात्रियों को पहुंचाने में इससे दोगुना समय लगता था.

NASA ने इस मिशन की सफलता के बारे में बताते हुए ट्वीट किया और बताया कि तीनों अंतरिक्ष यात्री अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर 4 बजकर 48 मिनट (ET) पर पहुंच गए थे, उन्होंने 1 बजकर 45 मिनट पर उड़ान भरी थी. यानी अंतरिक्ष यात्री महज तीन घंटे और तीन मिनट में वहां पहुंच गए थे. ये यात्री अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन कमांडर क्रिस कैसिडी के साथ काम करेंगे.

तीनों अंतरिक्ष यात्री अपनी यात्रा से पहले मास्को के बाहर स्टार सिटी ट्रैनिंग फैसेलिटी में क्वारंटीन भी रहे थे, ताकि कोरोना से संक्रमित होने का कोई खतरा न हो. ये लोग अंतरिक्ष स्टेशन में छह महीने तक रहेंगे. मालूम हो कि अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से धरती की दूरी 253 मील यानी 408 किलोमीटर है.

पाकिस्तान के बातचीत वाले दावे को भारत ने झुठलाया, कहा- ये इमरान खान के NSA की कल्पना है

Related Posts