10 साल तक खाए सिर्फ चिप्स और जंक फूड, चली गई आंखों की रोशनी

जंक फूड खाने की वजह से न सिर्फ लड़के की आंखों की रोशनी चली गई बल्कि उसकी हड्डियां भी कमजोर हो गईं और सुनने की क्षमता पर भी असर पड़ा.

रोड के किनारे चाट, बर्गर, मोमोज़, चाऊमीन का ठेला देखते ही आपका मन मचल जाता है तो ये खबर आपके लिए ही है. जंक फूड लंबे समय तक लगातार खाना कितना खतरनाक है, जान लीजिए. यूके में हार्वी डायर नाम के एक लड़के ने अपने फेवरेट फ्रेंच फ्राइज़, चिप्स, व्हाइट ब्रेड, हैम और सॉसेज़ वगैरह लगातार 10 साल तक खाए. 17 साल के डायर की आंखों की रोशनी चली गई और सुनाई देना भी कम हो गया है.

डायर ने डॉक्टरों को बताया कि जब वो सात साल का था तभी से उसे फल और सब्जियां नहीं पसंद हैं. किसी का रंग अच्छा नहीं लगता तो किसी का स्वाद. इसी वजह से सात साल की उम्र से उसने जंक फूड खाना शुरू कर दिया और 10 साल तक वही खाया.

blind from junk food, 10 साल तक खाए सिर्फ चिप्स और जंक फूड, चली गई आंखों की रोशनी
अपने सौतेले पिता के साथ हार्वी डायर

डॉक्टरों का कहना है कि सालों तक जंक फूड खाने की वजह से डायर के शरीर में कुछ विटामिन और मिनरल्स की कमी हो गई और उसकी आंखों की रोशनी चली गई. हार्वी डायर की आंखों की रोशनी न्यूट्रिनश ऑप्टिक न्यूरोपैथी की वजह से गई. ये समस्या उन गरीब बच्चों में पाई जाती है जिन्हें पौष्टिक भोजन नहीं मिल पाता.

ब्रिस्टल एनएचडी फाउंडेशन के डॉक्टर डेनिज़ एटन ने डायर के केस पर रिसर्च करके बताया कि उसे ‘एवोइडेंट रेस्ट्रिक्टिव फूड इंटेक डिसॉर्डर’ है. इस बीमारी में पीड़ित को कुछ खाने की चीजों की खुशबू या स्वाद नहीं पसंद आते. डायर की आंखों की रोशनी जाने के अलावा हड्डियां कमजोर हो चुकी हैं और सुनने की क्षमता पर भी असर पड़ा है.

ये भी पढ़ें:

मधुमक्खी के डंक से बेयर ग्रिल्स की हालत हुई खराब, डॉक्टरों ने बचाई जान

हैरी पॉटर पढ़ कहीं आत्‍माएं ना बुला लें बच्‍चे, स्‍कूल ने बैन कर दी पूरी सीरीज