ब्रिटिश संसद में ब्रेग्जिट बिल पास, यूरोपीय यूनियन से होगा बाहर, जानें क्या है पूरा मामला?

यूरोपीय यूनियन 28 देशों का संगठन है. इन 28 देशों के लोग आपस में किसी भी मुल्क में आ-जा सकते हैं और काम कर सकते हैं. ब्रिटेन 1973 में यूरोपीय यूनियन में शामिल हुआ था.

ब्रिटेन की संसद ने ब्रेग्जिट बिल (Brexit Bill) को अपनी मंजूरी दे दी है. 31 जनवरी को यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन बाहर हो जाएगा. निचला सदन हाउस ऑफ कॉमंस पहले ही इस बिल को हरी झंडी दिखा चुका है. ऊपरी सदन हाउस ऑफ लॉर्ड्स में इस बिल पर चर्चा के दौरान इसमें कुछ सुझाव पेश किए गए हैं.

हालांकि अभी इस बिल को कानून की शक्ल लेने के लिए महारानी एलिजाबेथ की शाही मंजूरी की आवश्यकता होगी. जिसे महज एक औपचारिकता ही माना जा रहा है. महारानी के सामने संसद से पारित बिल गुरुवार को पेश किया जा सकता है.

क्या है ब्रेग्जिट?

ब्रेग्जिट (Brexit) यानी ब्रिटिश एग्जिट को कहते हैं. इसका मतलब यह है कि ब्रिटेन यूरोपीय यूनियन से बाहर निकलेगा. दरअसल, यूरोपीय यूनियन 28 देशों का संगठन है. यूनियन में 28 यूरोपीय देशों की आर्थिक और राजनीतिक भागीदारी है.

इन 28 देशों के लोग आपस में किसी भी देश में आ-जा सकते हैं और काम कर सकते हैं. इस वजह से ये देश आपस में खुला व्यापार कर सकते हैं. 1973 में ब्रिटेन, यूरोपीय यूनियन में शामिल हुआ था और यदि वह बाहर होता है तो यह ऐसा करने वाला पहला देश होगा.

Brexit bill clears UK, ब्रिटिश संसद में ब्रेग्जिट बिल पास, यूरोपीय यूनियन से होगा बाहर, जानें क्या है पूरा मामला?

ब्रिटेन की जनता ने 23 जून 2016 को जुए एक जनमत सर्वेक्षण में यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में मतदान किया था.  जनता का यह फैसला हालांकि सरकार की उम्मीद के विपरीत थी और इसके कारण ब्रिटेन की मुद्रा पाउंड भारी गिरावट के साथ डॉलर के मुकाबले 30 साल के निचले स्तर पर जा पहुंची थी.

बता दें कि तत्कालीन प्रधानमंत्री डेविड कैमरॉन ने जनमत सर्वेक्षण कराया था और उन्होंने ब्रिटेन के यूरोपीय संघ में बने रहने के पक्ष में मतदान किया था. उलटा परिणाम आने पर उन्होंने अगले दिन इस्तीफा दे दिया था.

ये भी पढ़ें-

कश्मीर मसले पर ट्रंप ने की मध्यस्थता की पेशकश, भारत ने कहा- इसकी कोई गुंजाइश ही नहीं

‘भारत से रिश्ते सुधरने के बाद दिखेगी पाकिस्तान की आर्थिक क्षमता,’ WEF में बोले इमरान खान