जलियांवाला बाग कांड के लिए ब्रिटेन की PM थेरेसा मे ने जताया खेद

13 अप्रैल 1919 में जलियांवाला बाग नरसंहार हुआ था. आंकड़ों के मुताबिक इसमें 379 लोग मारे गए थे और 1100 लोग घायल हुए थे.

नई दिल्ली: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे(Theresa May) ने बुधवार को ब्रिटिश संसद में 1919 के जलियांवाला बाग नरसंहार(Jaliyanwala bagh) पर खेद जताया है. थेरेसा मे ने कहा हमें गहरा अफसोस है कि यह घटना हुई. इस पर विपक्ष की तरफ से जेरेमी कॉर्बिन ने थेरेसा से माफी मांगने के लिए कहा जिस पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. 13 अप्रैल को जलियांवाला बाग(Jaliyanwala bagh) हत्‍याकांड की बरसी भी है.

क्या है जलियांवाला बाग कांड

13 अप्रैल 1919 को रॉलेट एक्ट के विरोध में अमृतसर के जलियांवाला बाग में एक शांति सभा आयोजित की जा रही थी. सभा में करीब 20-25 हजार लोग जमा हुए थे. शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे लोगों पर ब्रिटिश सैनिकों ने गोलियां चला दीं. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 379 लोग मारे गए थे और 1100 लोग घायल हुए थे, जबकि अनाधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, करीब 1000 लोगों की मौत हुई थी और 1500 लोग घायल हुए थे.

यह भी पढ़ें- बेल खारिज होने के बाद लालू ने जेल से समर्थकों के नाम लिखी चिट्ठी, JDU ने दिया जवाब

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी के लिए एक ही दिन में आईं ये तीन बुरी खबर