कंगाली से जूझ रहा था पाकिस्तान, वित्त मंत्री असद उमर ने दिया इस्तीफा

पाकिस्तान में अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर लगातार बढ़ती आलोचनाओं के बीच गुरुवार को प्रधानमंत्री इमरान खान ने वित्त मंत्री असद उमर को उनके पद से हटने को कहा.

नई दिल्ली: गुरुवार को पाकिस्तान के वित्त मंत्री असद उमर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तरफ से वित्त मंत्रालय से हटाकर ऊर्जा मंत्रालय का कार्यभार देने की पेशकश के बाद उमर ने अपने पद से इस्तीफा दिया है. एक ट्वीट में उमर ने कहा कि यह कवायद ‘मंत्रिमंडल में फेरबदल का हिस्सा है’ और प्रधानमंत्री इमरान खान ने उन्हें ऊर्जा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालने को कहा.

उन्होंने ट्वीट में कहा, “मंत्रिमंडल में बदलाव के तहत, प्रधानमंत्री ने इच्छा जताई कि मैं वित्त के बजाए ऊर्जा मंत्रालय संभालूं. लेकिन, मैंने कोई भी मंत्री पद नहीं लेने के लिए उनकी रजामंदी हासिल कर ली. मेरा दृढ़ विश्वास है कि इमरान खान पाकिस्तान की सबसे अच्छी उम्मीद है और इंशाअल्लाह एक नया पाकिस्तान बनाएंगे.”

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि उमर ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है.

वित्त मंत्रालय में बदलाव एक ऐसे समय में हुआ है जब पाकिस्तान के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष से राहत पैकेज (आईएमएफ) के लिए बातचीत चल रही है. उमर हाल ही में वाशिंगटन की यात्रा से लौटे हैं जहां आईएमएफ के बेलआउट पैकेज को अंतिम रूप दिया गया और इस पर हस्ताक्षर किए गए.

उमर ने इससे पहले कहा था कि सभी बड़े मुद्दों पर सहमति बन चुकी है और तकनीकी मुद्दों को अंतिम रूप देने के लिए आईएमएफ का एक दल इस महीने के अंत तक इस्लामाबाद आएगा.

इस्तीफे के बाद उमर ने संवाददाताओं से कहा कि ‘अर्थव्यवस्था में स्थायित्व के लिए कुछ मुश्किल फैसलों’ को लेने का वक्त आ गया है. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि देश के नए वित्त मंत्री को उनके प्रयासों में सहयोग मिलेगा.

उमर ने कहा, “इसका यह मतलब नहीं है कि मैं पाकिस्तान तहरीक इंसाफ के नए पाकिस्तान के विजन को आगे ले जाने के लिए उपलब्ध नहीं हूं. मैं देश को आगे ले जाने के लिए उपलब्ध हूं और आगे भी रहूंगा.”