भारत के बाद अमेरिका में भी टिकटॉक पर बैन की तैयारी, अब चीन से बाहर जा सकती है कंपनी

स्टेट सेक्रेटरी माइक पोंपियो (Mike Pompeo) ने अमेरिकी लोगों से कहा कि यदि वे अपनी प्राइवेट जानकारी को चीनी (China) कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों में नहीं जाने देना चाहते हैं तो वे TikTok को डाउनलोड न करें. मतलब ऐप पर डेटा शेयरिंग का आरोप लगाया गया है.
Tiktok Management Distance from China, भारत के बाद अमेरिका में भी टिकटॉक पर बैन की तैयारी, अब चीन से बाहर जा सकती है कंपनी

भारत-चीन विवाद के बीच देश में टिकटॉक (TikTok) समेत 59 चीनी ऐप्स पर बैन लगा दिया गया है. इसे देखते हुए अब अमेरिका (America) में भी टिकटॉक पर बैन लगाने की मांग तेज हो रही है. ये सब देखते हुए बीजिंग में बेस्‍ड कंपनी बाइटडांस (ByteDance Ltd), कंपनी के कॉर्पोरेट स्ट्रक्चर को बदलने और टिकटॉक के लिए अलग से नया मैनेजमेंट बोर्ड बनाने पर विचार कर रही है.

हेडक्वॉर्टर को चीन से बाहर ले जाने पर हो रहा विचार

वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार, बाइटडांस मैनेजमेंट इसके हेडक्वॉर्टर को चीन (China) से बाहर ले जाकर अलग मुख्यालय बनाने पर विचार कर रहा है. एक बयान में टिकटॉक कंपनी ने कहा, “हम अपने यूजर्स, कर्मचारियों, कलाकारों और पार्टनर्स आदि के लिए आगे बढ़ेंगे.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

बता दें कि चीन का वीडियो-शेयरिंग सोशल नेटवर्किंग सर्विस टिकटॉक का मालिकाना हक बाइटडांस कंपनी के पास है. वर्तमान में टिकटॉक का बाइटडांस से अलग कोई हेडक्‍वार्टर नहीं है. इसके पांच सबसे बड़े ऑफिस लॉस एंजिल्स, न्यूयॉर्क, लंदन, डबलिन और सिंगापुर में हैं. टिकटॉक वैश्विक आधार (Global Base) पर अपना नया हेडक्वार्टर खोलने के लिए कई स्थानों पर विचार कर रहा है.

मालूम हो कि भारत में चीनी ऐप्स पर बैन लगाने से कंपनी को भारी नुकसान हुआ है और आने वाले दिनों में कंपनी को दूसरे देशों से भी इसी तरह के रिस्पॉन्स देखने को मिल सकते हैं, जैसे आस्ट्रेलिया (Australia) में भी कई सांसद इस ऐप पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव ला रहे हैं. ऐसे में कंपनी ने समय रहते अपने लिए नए ठिकाने के विकल्प पर काम करना शुरू कर दिया है.

अमेरिका भी बैन लगाने पर कर रहा विचार

वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में बताया गया कि टिकटॉक ऐप (App) को सबसे ज्यादा डाउनलोड अमेरिका में किया जाता है जहां यह युवाओं के बीच बेहद लोकप्रिय है. लेकिन अब भारत की चीन के खिलाफ डिजिटल कार्रवाई को देखते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) भी इस पर प्रतिबंध लगाने का विचार कर रहे हैं.

ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि उनका प्रशासन अमेरिका में इस ऐप पर बैन लगाने पर विचार कर रहा है ताकि कोरोनोवायरस संकट (Coronavirus) को लेकर चीन के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की जा सके. इसी के साथ उन्होंने कहा कि यह फैसला अमेरिकी यूजर्स की प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए भी लिया जा रहा है.

ऐप पर डेटा शेयरिंग का लग रहा आरोप

वहीं, स्टेट सेक्रेटरी माइक पोंपियो (Mike Pompeo) ने अमेरिकी लोगों से कहा कि यदि वे अपनी प्राइवेट जानकारी को चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों में नहीं जाने देना चाहते हैं तो वे इस ऐप को डाउनलोड न करें. मतलब ऐप पर डेटा शेयरिंग का आरोप लगाया गया है. हालांकि टिकटॉक की तरफ से लगातार यह दलील दी जा रही है कि चाइनीज गवर्नमेंट ने यूजर्स के डेटा के साथ किसी तरह की छेड़खानी नहीं की.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts