इस शख्‍स को मिला 27 किलो का मोती, कीमत जानकर रह जाएंगे हैरान

यह मोती लगभग इतना बड़ा है, जितना कि एक नवजात बच्चा होता है. इसका रंग सफेद और क्रीम है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यह गीगा पर्ल लगभग 1,000 साल पुराना हो सकता है.

टोरंटो: एक कनाडाई व्यक्ति ने संभवत: दुनिया के सबसे बड़े नेचुरल पर्ल यानि मोती का अनावरण किया. 34 वर्षीय अब्राहम रेयेस ने इस गीगा पर्ल को कुछ साल पहले अपनी एक आंटी से पारिवारिक विरासत के रूप में हासिल किया था. इस गीगा पर्ल का वजन 27.65 किलोग्राम है, जो कि लाओ-त्ज़ु पर्ल के वजन का चार गुना है.

यह मोती लगभग इतना बड़ा है, जितना कि एक नवजात बच्चा होता है. इसका रंग सफेद और क्रीम है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यह गीगा पर्ल लगभग 1,000 साल पुराना हो सकता है. यह एक विशाल क्लैम के अंदर छिपा हुआ था, जिसे रेयेस के दादा ने फिलीपींस के मछुआरे से 1959 में उसकी आंटी के लिए गिफ्ट के तौर पर खरीदा था.

रेयेस के परिवार को नही पता था कि इसका क्या किया जा सकता है और उन्हें यह भी नहीं पता था कि उनके पास जो विशाल क्लैम है उसके अंदर यह गीगा पर्ल छिपा हुआ है. सीबीसी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रेयेस ने कहा कि हमारे परिवार में इसे किसी ने नहीं देखा था, क्योंकि यह मोती की तरह नहीं दिखता था.

गुड न्यूज नेटवर्क के अनुसार, रेयेस की आंटी ने जब 2016 में अपनी संपत्ति बांटी तो यह गीगा पर्ल रेयेस के पास आ गया. रेयेस ने इसकी जांच जियोलॉजिकल स्पेशलिस्ट्स से कराई, जिन्होंने यह अनुमान लगाया कि इस गीगा पर्ल की कीमत 60 से 90 मिलियन डॉलर यानि 420 करोड़ से 629 करोड़ रुपए के बीच हो सकती है. फिलहाल इस गीगा पर्ल को 22 कैरेट गोल्ड लीफ वाले ऑक्टोपस के साथ टिका रखा है, जिसे विशेष तौर पर इसके लिए ही बनाया गया है.

रेयेस इसे बेचने के मूड में बिलकुल भी नहीं है. वे चाहते हैं कि इसकी सुंदरता को विभिन्न म्यूजियम और गैलरी में रखकर पूरी दुनिया को दिखाया जाए.

सीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, रेयेस ने इसे लेकर कहा, “मेरा मानना ​​है कि दुनिया को भी पता होना चाहिए कि इस तरह की कोई चीज भी मौजूद है. मेरे लिए यह बहुत गर्व की बात है कि यह मेरे पास है. इसे पाकर मैं एक बड़ी जिम्मेदारी महसूस करता हूं.”