गलवान में मारे गए सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रहा चीन, कहा- अंत्येष्टि समारोहों को ना किया जाए आयोजित

चीन सरकार (China Government) अपने प्रियजनों को खोने वाले सैनिक परिवारों के साथ दुर्व्यवहार कर रही है. अब चीनी सरकार ने सैनिकों के अंतिम संस्कार से भी इंकार कर दिया है.
China denies burial to its soldiers killed in Galwan, गलवान में मारे गए सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रहा चीन, कहा- अंत्येष्टि समारोहों को ना किया जाए आयोजित

चीन ने गलवान फेसऑफ (Galwan Face-off) में जान गंवाने वाले सैनिकों की संख्या को मानने से इंकार करने के साथ ही अब अपने सैनिकों के परिवारों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है. खबर है कि वो गलवान में मारे गए सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रहा है कि सैनिकों के अंत्येष्टि के समारोहों को आयोजित न किया जाए.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

चीन और भारत (India and China) के सैनिकों के बीच गलवान (Galwan) में 15 जून को हुए फेसऑफ में दोनों तरफ के सैनिकों ने जान गंवाई. इस झड़प के बाद भारत ने ये स्वीकार किया कि उसके 20 सैनिकों ने गलवान में शहादत दी है, लेकिन चीन अपने सैनिकों के मारे जाने की संख्या ही छुपाता रहा.

चीन ने नहीं बताया कितने सैनिक मारे गए

गलवान में सैनिकों की शहादत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में गलवान घाटी मे शहीद हुए सेना के जवानों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की. वहीं घटना के एक महीने बाद भी चीन ने स्वीकार तक नहीं किया कि इस झड़प में उसके कितने सैनिक मारे गए.

सैनिकों के परिवारों से दुर्व्यवहार कर रहा चीन

अब खबर है कि चीन सरकार (China Government) अपने प्रियजनों को खोने वाले सैनिक परिवारों के साथ दुर्व्यवहार कर रही है. अब चीनी सरकार ने सैनिकों के अंतिम संस्कार से भी इंकार कर दिया है. अमेरिकी इंटेलीजेंस एसेसमेंट के मुताबिक चीन इस मामले को कवर करने के लिए इस बात को स्वीकार नहीं कर रहा है कि गलवान संघर्ष (Galwan Faceoff) में उसके सैनिक मारे गए हैं.

अमेरिकी खुफिया विभाग के मुताबिक चीन के 35 सैनिक मारे गए

एसेसमेंट के मुताबिक चीन की सरकार ने अब तक कुछ अधिकारियों की मौत को स्वीकार किया है. भारत के मुताबिक गलवान में 43 चीनी सैनिक मारे गए. अमेरिकी खुफिया विभाग का मानना है कि इस संघर्ष में चीन के 35 सैनिकों की मौत हुई.

चीन ने सैनिक परिवारों को जारी किया ये आदेश

अमेरिकी इंटेलीजेंस के एसेसमेंट के हवाले से यूएस न्यूज ने कहा कि है कि चीन की सिविल अफेयर्स मिनिस्ट्री ने गलवान में मारे गए सैनिकों के परिवारों से कहा है कि वे सिर्फ ट्रेडीशनल तरीके से अंतिम संस्कार करें और किसी समारोह का आयोजन न करें. अंतिम संस्कार को दूरस्थ तरीके से आयोजित करना चाहिए.

कोरोनावायरस का बना रहा बहाना

चीन की सरकार ने इसके लिए कोरोनावायरस का बहाना बनाया है, हालांकि ये जानबूझकर हिंसक झड़प की यादों को मिटाने के लिए की जा रही कोशिश है. चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी के इस फैसले से सैनिकों के परिवार परेशान हैं.

यूएस बेस्ड ब्रेइटबार्ट न्यूज ने इस मामले को रिपोर्ट किया है. ब्रेइटबार्ट के अनुसार, चीनी सरकार उन सैनिकों के परिवारों को चुप कराने का प्रयास कर रही है जो अपने गुस्से और हताशा को बाहर निकालने के लिए वीबो और अन्य प्लेटफार्मों का उपयोग कर रहे हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts