जहां हुई थी हिंसक झड़प वहां से पीछे हटी चीनी सेना, Galwan Valley के पास बनाया गया बफर जोन

सूत्रों के मुताबिक, दोनों देशों की सेनाओं (Armies) ने रिलोकेशन पर सहमति जाहिर की. इसके बाद सेनाएं मौजूदा स्थान से पीछे हट गई हैं.
Chinese army retreated, जहां हुई थी हिंसक झड़प वहां से पीछे हटी चीनी सेना, Galwan Valley के पास बनाया गया बफर जोन

भारत (India) और चीन (China) के बीच जारी सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. 15 जून को गलवान घाटी (Galwan Valley) में जिस जगह पर दोनों देशों की सेनाओं में हिंसक झड़प हुई थी, अब चीनी सेना वहां से पीछे हट गई है.

सूत्रों के मुताबिक, दोनों देशों की सेनाओं ने रिलोकेशन पर सहमति जाहिर की. इसके बाद सेनाएं मौजूदा स्थान से पीछे हट गई हैं. इस पहल को भारत-चीन के बीच सीमा तनाव के मद्देनजर काफी अहम माना जा रहा है.

गलवान घाटी के पास अब बफर जोन तैयार

साथ ही गलवान घाटी के पास अब बफर जोन तैयार किया गया है, ताकि किसी भी तरह की हिंसा की घटना फिर ना हो पाए. मालूम हो कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच लगातार सैनिकों को पीछे हटाने को लेकर मंथन चल रहा था.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

बता दें कि गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद चीनी सैनिक उस स्थान से इधर आ गए थे जो भारत के मुताबिक LAC है. भारत ने भी अपनी मौजूदगी को उसी अनुपात में बढ़ाते हुए बंकर और अस्थायी ढांचे तैयार किए थे.

दोनों देशों में सैन्य स्तर पर बातचीत

भारत और चीन की सेनाओं के बीच 30 जून को करीब 10 घंटे तक कोर कमांडर स्तर की बातचीत हुई थी. इस बातचीत का उद्देश्य पूर्वी लद्दाख के टकराव वाले क्षेत्रों से सैनिकों को पीछे करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देना था.

भारत ने पुरानी स्थिति बहाल करने और तत्काल चीनी सैनिकों को गलवान घाटी, पेंगोंग सो और अन्य इलाकों से वापस बुलाने की मांग की थी. इस बातचीत में कोई अंतिम निर्णय निकलकर सामने नहीं आ पाया था.

मालूम हो कि 15 जून को गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे. चीनी पक्ष को भी नुकसान हुआ लेकिन उसने अभी इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts