पाकिस्तान ने मलीहा को हटाकर अकरम को बनाया यूएन में प्रतिनिधि, लग चुके हैं घरेलू हिंसा के आरोप

यूएन में अपनी फजीहत हुई देख इमरान खान ने वहां पर पाकिस्तान की प्रतिनिधि मलीहा लोधी को बर्खास्त कर दिया था.

पाकिस्तान ने यूनाइटेड नेशन में मलीहा लोधी को हटाकर मुनीर अकरम को अपना स्थायी प्रतिनिधि नियुक्त किया है. अकरम को इससे पहले राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी छोटे से मतभेद के चलते इस पद से हटा चुके हैं. अकरम 2002 में भी एक बार विवादों में घिर चुके हैं जब उनकी गर्लफ्रेंड ने उन पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया था. उस वक्त वे यूएन में पाकिस्तान के प्रतिनिधि थे. हालांकि बाद में मामला कोर्ट में सुलझा लिया गया था.

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान जारी करके कहा कि मुनीर अकरम यूएन के न्यूयॉर्क स्थित हेडक्वॉर्टर में रिपोर्ट करेंगे. अकरम को इस पोस्ट का अनुभव भी है. वे 2002 से 2008 तक इस स्थायी प्रतिनिधि के तौर पर काम कर चुके हैं.

मुनीर अकरम ने कराची से पॉलिटिकल साइंस की मास्टर्स डिग्री ले रखी है. 1968 में सरकारी नौकरी में आने के एक साल बाद पाकिस्तानी विदेश सेवा में आ गए. पहली पोस्टिंग यूएन में सेकेंड सेक्रेटरी की हुई. कई देशों में काम करने के बाद 1995 में यूएन के जेनेवा ऑफिस में पाकिस्तान के स्थाई प्रतिनिध बन गए.

2003  में तत्कालीन पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने मुनीर अकरम को यूएन के न्यूयॉर्क ऑफिस में तैनात कर दिया. जब आसिफ अली जरदारी पाकिस्तान के राष्ट्रपति बने तो उन्होंने अकरम को यूएन से हटा दिया. वो चाहते थे कि बेनजीर भुट्टो की हत्या का केस अकरम यूएन में उठाएं लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.

गर्लफ्रेंड ने लगाया हिंसा का आरोप

साल 2002, जगह न्यूयॉर्क शहर, पुलिस को 911  पर कॉल करके किसी महिला ने रोते हुए कहा कि उसका पति उसे पीट रहा है. उसने बताया कि उसका सिर दीवार में लड़ाया गया है. पुलिस को महिला ने ये भी बताया कि उसका पति राजनैतिक रसूखदार भी है.

जब पुलिस मैनहटन स्थित मुनीर अकरम के घर में पहुंची तो वो वहीं मौजूद थे. वहां कॉल करने वाली महिला ‘मरियाना मिहिक’ भी मौजूद थी. उसने बताया कि ये आदमी उसका बॉयफ्रेंड है और झगड़े के बाद वो घर छोड़ना चाहती थी. पुलिस के सामने अकरम ने खुद को अंबेसडर के रूप में पेश किया और पुलिस लोकल क्राइम के लिए उन पर एक्शन न ले सकी.

 

 

Related Posts