सैल्मन मछली में एक हफ्ते तक जिंदा रह सकता है कोरोनावायरस: चीनी रिसर्च

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के खतरे को देखते हुए चीन की सरकार (China Government) ने मांस के आयात को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाना शुरू कर दिया है. चीन ने सोमवार तक 19 देशों की 56 कंपनियों से आयात को रोक दिया था.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 10:48 pm, Tue, 8 September 20
Coronavirus
एक जापानी रिसर्च में सामने आया है कि कोरोनावायरस नौ घंटे तक मानव त्वचा पर सक्रिय रह सकता है

चीन (China) में की गई एक रिसर्च मुताबिक, सैल्मन मछली (Salmon Fish) से कोरोनावायरस संक्रमण फैल सकता है. शोधकर्ताओं के अनुसार, आयात की गई सैल्मन मछली संक्रमण का संभावित स्रोत बन सकती है. पिछले साल के अंत में कोरोना संक्रमण का पहला मामला चीन के वुहान शहर में एक सी फूड (Sea Food) और मीट के मार्केट में सामने आया था. बीजिंग ने फेंगतई जिले में शिनफादी बाजार और जिंगशेन सीफूड मार्केट को तुरंत बंद कर दिया था.

साउथ चाइना एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी और गुआंगझोउ (Guangzhou) में ग्वांगडोंग एकेडमी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेज के शोधकर्ताओं ने कहा कि सैल्मन मछली के सैंपल की जांच करने पर यह बात सामने आई है कि 4 डिग्री सेल्सियस (39 डिग्री फारेनहाइट) पर सैल्मन मछली पर SARS-CoV-2  (नया कोरोनावायरस) आठ दिनों तक जिंदा रह सकता है. अहम बात यह है कि इतने ही तापमान पर मछली को ले जाया जाता है.

आयातित मांस और पैकेजिंग की जांच

खाने के पैकेट्स पर वायरस की मौजूदगी को देखते हुए चीनी अधिकारियों ने जून से आयात किए गए मांस, फूड पैकेट्स और कंटेनरों की जांच का काम शुरू कर दिया था. चीन की सीमा शुल्क एजेंसी (China Customs Agency) ने मंगलवार को एक रिपोर्ट जारी कर कहा कि लिए गए 5 लाख से ज्यादा सैंपल्स में से छह में कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus) के लिए जिम्मेदार वायरस पाए गए.

मांस के आयात पर रोक लगाने संबंधी उपाय

शोधकर्ताओं का कहना है कि SARS-CoV-2-संक्रमित मछली एक देश से दूसरे देश में आसानी से एक हफ्ते के अंदर पहुंचाई जा सकती है. उन्होंने कहा कि शिपिंग के दौरान मछली को 0-4 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर रखा जाना चाहिए. कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए चीन की सरकार ने मांस के आयात को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाना शुरू कर दिया है. चीन ने सोमवार तक 19 देशों की 56 कंपनियों से आयात को रोक दिया था क्योंकि वहां के कर्मचारी संक्रमित थे.