Corona Crisis के चलते H1B वीजा पर रोक लगा सकते हैं ट्रंप, अमेरिका में उठी मांग

H-1B वीजा गैर-प्रवासी वीजा है, जोकि अमेरिका की कंपनियों में विदेशी लोगों को काम करने के लिए टेम्प्रेरी नौकरी देने की परमिशन देता है.
Suspend H-1B Visa, Corona Crisis के चलते H1B वीजा पर रोक लगा सकते हैं ट्रंप, अमेरिका में उठी मांग

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते एक अमेरिकी ऑर्गेनाइजेशन यूएस टेक वर्कर्स (US tech workers) ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) से H-1B वीजा कार्यक्रम को इस साल के लिए स्थगित करने का आग्रह किया है. ये ऑर्गेनाइजेशन अमेरिकी टेक्नोलॉजी वर्कर्स को लीड करता है. ऑर्गेनाइजेशन ने ये मांग कोरोना वायरस के कारण देश में बड़े पैमाने पर की जा रही वर्कर्स की छंटनी के बीच उनके हितों की रक्षा करने के लिए की है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

यूएस टेक वर्कर्स एक नॉन-प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन है जो H-1B वीजा प्रोग्राम से नुसकान झेल रहे अमेरिकी वर्कर्स को लीड करता है. इस ऑर्गेनाइजेशन ने डोनाल्ड ट्रंप को एक लेटर भेजा है जिसमें H-1B वीजा और विदेशी गेस्ट वर्कर्स के लिए भी H-2B (H-2B वीजा अमूमन विदेशी कृषि श्रमिकों के लिए होता है) वीजा प्रोग्राम को सस्पेंड करने की मांग की है. ये लेटर राष्ट्रपति के चीफ ऑफ स्टाफ और कांग्रेस सदस्यों को भी भेजा गया है.

इस लेटर में कोरोना वायरस (COVID-19) के मद्देनजर आए संकट से अमेरिकी वर्कर्स के हितों की रक्षा की बात कही गई है. ये भी कहा गया कि कोरोना के कारण अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है इसलिए विदेशी वर्कर्स को वीजा की मंजूरी देने के लिए ये समय ठीक नहीं है.

क्या है H-1B वीजा?

H-1B वीजा गैर-प्रवासी वीजा है, जोकि अमेरिका की कंपनियों में विदेशी लोगों को काम करने के लिए टेम्प्रेरी नौकरी देने की परमिशन देता है. इसके लिए किसी खास फील्ड में एक्स्पर्टीज और ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट होना जरूरी है. ये वीजा 6 साल तक वैलिड होता है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts