Coronavirus : इटली में हुई 463 मौतें और 8 हजार मरीजों पर खतरा, ईरान में अफवाह से 27 ने गंवाई जान

इटली में कोरोनावायरस से मरने वालों में एक प्रतिशत 50 से 59 वर्ष की आयु वर्ग के थे, जबकि 10 प्रतिशत- 60 से 69 वर्ष आयु वर्ग के, 31 प्रतिशत-70 से 79 वर्ष आयु वर्ग, 44 प्रतिशत- 80 से 89 आयु वर्ग और 14 प्रतिशत- 90 या इससे अधिक आयु वर्ग के रहे.
Coronavirus 463 deaths in Italy, Coronavirus : इटली में हुई 463 मौतें और 8 हजार मरीजों पर खतरा, ईरान में अफवाह से 27 ने गंवाई जान

इटली में अब तक कोरोनावायरस संक्रमण के कुल 7,900 मामले सामने आए हैं. जबकि इससे मरने वालों की संख्या 463 हो गई. इटली के हेल्थ अथॉरिटी ने इस बात की पुष्टि की है. वहीं इटली के रोम और मिलान जैसे बड़ी शहरों के अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक कोरोनावायरस आपातकाल के लिए असाधारण आयुक्त के रूप में कार्यरत सिविल प्रोटेक्शन डिपार्टमेंट के प्रमुख एंजेलो बोरेली ने कहा, ‘हमने सोमवार तक कुल 102 नए मामले दर्ज किए हैं, जिसके बाद से अभी तक का आंकड़ा 7,900 हो गया है.’ उन्होंने कहा, ‘संक्रमण से 97 मौतें देखने को मिली, जिसके बाद कोविड-19 के कारण मरने वाले व्यक्तियों की कुल संख्या 463 हो गई.’

मरने वालों में बुजुर्गों की संख्या ज्यादा

हेल्थ अथॉरिटी की ओर से मौतों और रिकवरी सहित सभी आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए किए गए मूल्यांकन में कोरोनावायरस मामलों की कुल संख्या 9,172 रही. अधिकारियों ने माना कि प्रभावित होने वालों में बुजुर्ग लोगों की संख्या अधिक थी. बोरेली ने कहा, ‘मरने वालों में एक प्रतिशत 50 से 59 वर्ष की आयु वर्ग के थे, जबकि 10 प्रतिशत- 60 से 69 वर्ष आयु वर्ग के, 31 प्रतिशत-70 से 79 वर्ष आयु वर्ग, 44 प्रतिशत- 80 से 89 आयु वर्ग और 14 प्रतिशत- 90 या इससे अधिक आयु वर्ग के रहे.’

हेल्थ अथॉरिटी ने यह भी कहा कि ऐसा भी नहीं है कि केवल बुजुर्गो को ही अधिक संक्रमण का खतरा है. इटली के नेशनल हेल्थ इंस्टीट्यूट (आईएसएस) ने बयान जारी कर कहा, ‘कोविड-19 से संक्रमित 22 प्रतिशत मरीज 19 से 50 वर्ष की आयु वर्ग के हैं.’

ईरान में अफवाह से गई 27 जानें

अब तक दुनिया भर में 100 से ज्यादा देशों में फैल चुके घातक कोरोना वायरस से बचाव के बारे में अफवाहें भी चल रही हैं. इसी तरह की अफवाह के चलते ईरान में 27 लोगों की मौत हो गई. ईरान में तेजी से फैले कोरोना वायरस से करीब 5 हजार लोग संक्रमित हैं. ईरान ने वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए सभी स्कूलों और विश्वविद्यालयों को बंद करने के साथ ही सांस्कृतिक और खेल के सभी बड़े उत्सव रद्द कर दिए हैं.

बचाव के लिए पी लिया था मिथेनॉल

चीन से फैले इस खतरनाक वायरस से दुनियाभर में अब तक एक लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 3000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. इससे बचाव के बारे में ईरान में अफवाह फैली कि अल्कोहल पीने से इस वायरस से बचा जा सकता है. ईरान की न्यूज एजेंसी IRNA की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वायरस के संक्रमण से बचने की अफवाह के बाद कई लोगों ने मिथेनॉल पी लिया. इससे 27 लोगों की मौत हो गई.

Related Posts