‘अक्टूबर तक तैयार हो सकती है Coronavirus वैक्सीन’, विश्व की प्रमुख दवा कंपनी फाइजर का दावा

दवा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी फाइजर (Pfizer) के CEO अल्बर्ट बोरला (Albert Bourla) ने कहा कि अगर चीजें ठीक तरह से चलती हैं, तो अक्टूबर के अंत के आसपास हमारे पास एक कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) होगी.
coronavirus vaccine latest update, ‘अक्टूबर तक तैयार हो सकती है Coronavirus वैक्सीन’, विश्व की प्रमुख दवा कंपनी फाइजर का दावा

दवा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी फाइजर (Pfizer) का मानना है कि कोरोनावायरस (Coronavirus) को रोकने के लिए अक्टूबर के अंत तक एक वैक्सीन (Vaccine) तैयार हो सकती है. कंपनी के CEO अल्बर्ट बोरला (Albert Bourla) ने ये जानकारी दी है. फाइजर जर्मन MRNA कंपनी बायोएनटेक के सहयोग से Covid-19 को रोकने के लिए BNT-162 वैक्सीन कार्यक्रम के लिए अमेरिका और यूरोप में क्लीनिकल टेस्ट कर रही है.

बोरला ने इस हफ्ते इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फार्मास्यूटिकल मैन्युफैक्चर्स एंड एसोसिएशन (IFPMA) के आयोजित एक वर्चुअल कार्यक्रम में भाग लेते हुए यह टिप्पणी की.

फियर्सबायोटेक के आयोजित इस समारोह में बोरला ने कहा, “अगर चीजें ठीक तरह से चलती हैं, तो हमारे पास फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन  (US FDA ) और यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (EMA) के लिए सुरक्षा और प्रभावकारिता (Efficacy) के पर्याप्त सबूत होंगे और अक्टूबर के अंत के आसपास हमारे पास एक वैक्सीन होगी.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

कई बड़ी कंपनियां कर रही वैक्सीन पर काम

इस कार्यक्रम में एस्ट्राजेनेका के CEO पास्कल सोरियट, ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (GSK) की प्रमुख एमा वाल्स्ले, जॉनसन एंड जॉनसन के मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी पॉल स्टॉफल्स भी शामिल थे.

इनमें से प्रत्येक कंपनी अपने पार्टनर्स के साथ मिलकर बीमारी से बचाव के लिए वैक्सीन तैयार कर रही है, जबकि GSK सैनोफी के साथ सेना में शामिल हो गई है. वहीं, एस्ट्राजेनेका ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर वैक्सीन बनाने पर काम कर रही है. जे एंड जे (Johnson & Johnson) कंपनी अपनी वैक्सीन को तैयार करने के लिए अमेरिका के बायोमेडिकल एडवांस्ड रिसर्च एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ सहयोग कर रही है.

दुनिया में 120 से ज्यादा वैक्सीन पर चल रही रिसर्च

अब तक दुनिया भर में 120 से ज्यादा टीकों (Vaccine) पर टेस्ट चल रहा है. वर्तमान में, कम से कम 10 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के लिए उम्मीदवार हैं. इसी के साथ 115 वैक्सीन उम्मीदवार वे हैं, जिनके क्लीनिकल ट्रायल पहले से मूल्यांकन में हैं.

वैक्सीन को लेकर WHO ने क्या कहा?

WHO के अनुसार, जितना हो सके, उतने टीकों का मूल्यांकन करना जरूरी है क्योंकि यह अनुमान नहीं लगाया जा सकता है कि ये कितने व्यावहारिक (Practically) साबित होंगे. WHO ने कहा कि सफलता की संभावना को बढ़ाने के लिए, सभी उम्मीदवारों की वैक्सीन का टेस्ट तब तक करना जरूरी है, जब तक वे असफल नहीं हो जाते.

फाइजर और बायोएनटेक के डेवलपमेंट प्रोग्राम में चार वैक्सीन उम्मीदवार शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक MRNA के अलग कॉम्बिनेशन और टारगेट एंटीजन को रिप्रेजेंट करते हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts