मौसमी फ्लू जैसा हो जाएगा कोरोनावायरस, पर अभी नहीं- नई स्टडी में हुआ खुलासा

फ्लू और अन्य सांस संबंधी वायरस (Virus) के मुकाबले कोरोना (Coronavirus) के मौसमी नियंत्रण वाले कारक अभी तक गर्मियों के महीनों में इसके प्रसार को रोक नहीं सकते.

फ्रंटियर्स इन पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित एक नई समीक्षा बताती है कि COVID-19 अलग जलवायु परिवर्तन वाले देशों में ये मौसमी फ्लू जैसा हो जाएगा. लेकिन उससे पहले इसके लिए सामूहिक प्रतिरक्षा पहले हासिल करनी ज़रूरी है. लेबनान की अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ बेरुत की इस स्टडी को लिखने वाले वरिष्ठ लेखक डॉ. हसन ज़ाराकेट ने कहा है कि तब तक ये सालों तक सभी मौसम में फैलता रहेगा.

ये निष्कर्ष इस बात की तरफ इशारा करते हैं कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में वायरस को नियंत्रित करने की ज़रूरत है. जब तक इसके खिलाफ सामूहिक प्रतिरक्षा हासिल नहीं हो जाती, तब तक यह साल दर साल ऐसे ही फैलता रहेगा. इसलिए जनता को इसके साथ रहना, मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग, रोकथाम के सर्वोत्तम उपायों को अपनाना होगा. हाथों की सफाई, समूहों में इकट्ठा होने से बचने की भी कोशिश करनी होगी.

ट्रांसमिशन दर बेहद ज़्यादा

दोहा के कतर विश्वविद्यालय के और स्टडी के सहयोगी लेखक डॉ. हदी यसीन ने पुष्टि की है कि जब तक सामूहिक प्रतिरक्षा हासिल नहीं कर ली जाती तब तक कोरोनावायरस (Coronavirus) कई रूपों में सामने आ सकता है. हालांकि, फ्लू जैसे अन्य वायरस की तुलना में कोविड ​​-19 में ट्रांसमिशन का रेट हाई है.

फ्लू और अन्य सांस संबंधी वायरस (Virus) के मुकाबले कोरोना के मौसमी नियंत्रण वाले कारक अभी तक गर्मियों के महीनों में COVID-19 के प्रसार को रोक नहीं सकते. कहा गया है कि एक बार टीकाकरण के ज़रिए सामूहिक प्रतिरक्षा का लक्ष्य हासिल कर ली जाती है तो ये वायरस मौसमी कारकों के प्रति अतिसंवेदनशील हो सकता है.

ज़ाराकेट कहते हैं कि वायरस के बारे में लगातार हो रहे शोध के बावजूद अभी ऐसी बहुत सारी चीज़ें हैं जिनको जानना बाकी है. हमारी भविष्यवाणी सही होगी या नहीं ये भविष्य पर निर्भर करता है, लेकिन हमें लगता है कि इसकी संभावना ज़्यादा है. अब तक जो चीज़ें नज़र आईं है उससे ये लगता है कि ये वायरस मौसमी बन जाएगा.

Related Posts