ग्लोबल इंटरनेट फ्रीडम में आई गिरावट, भारत को सीख देने वाले पाकिस्तान की हालात बदतर

वैश्विक स्तर पर, इंटरनेट और डिजिटल मीडिया फ्रीडम के मामले में पाकिस्तान दस सबसे खराब देशों में से एक है. क्षेत्रीय रैकिंग के मामले में पाकिस्तान, वियतनाम और चीन के बाद तीसरा सबसे खराब देश है.

कश्मीर में इंटरनेट की सेवा ठप रहने के चलते पाकिस्तान भारत की आलोचना करता रहा है, लेकिन एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट ने इस बात का खुलासा किया है कि लगातार नौ साल से इंटरनेट उपयोग के मामले में पाकिस्तान स्वतंत्र नहीं है. इसी के साथ इस साल पाकिस्तान ने इस मामले में 100 से 26 स्कोर किया है जबकि पिछले साल यह 27 था.

फ्रीडम हाउस (गैर सरकारी संगठन) ने मंगलवार को ‘द क्राइसिस ऑफ सोशल मीडिया’ शीर्षक के साथ अपनी फ्रीडम ऑन द नेट (FOTN) रिपोर्ट को जारी किया, जिसमें जून 2018 से मई 2019 के बीच ग्लोबल इंटरनेट फ्रीडम में समग्र गिरावट दर्ज की गई है.

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, रिपोट में पाकिस्तान को 100 (सबसे खराब) में से 26वें नंबर पर रखा गया है, पिछले साल की रैकिंग के मुकाबले यह एक स्थान नीचे है. इंटरनेट के उपयोग में आने वाली बाधाओं के लिए इस देश ने 25 में से 5 स्कोर किया है, इंटरनेट पर सर्च की जाने वाली चीजों की सीमित मात्रा में पाकिस्तान ने 35 में से 14 स्कोर किया है और उपयोगकर्ता अधिकार सूचकांक के उल्लंघन के मामले में पाकिस्तान ने 40 में से 7 अंक प्राप्त किए हैं.

वैश्विक स्तर पर, इंटरनेट और डिजिटल मीडिया फ्रीडम के मामले में पाकिस्तान दस सबसे खराब देशों में से एक है. क्षेत्रीय रैकिंग के मामले में पाकिस्तान, वियतनाम और चीन के बाद तीसरा सबसे खराब देश है.

इंटरनेट फ्रीडम में आई गिरावट के अलावा रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि पाकिस्तान में सूचनात्मक रणनीति के माध्यम से चुनाव में भी हेरफेर किया गया है, जिनमें अति-पक्षपात टीकाकरों, बोट्स (इंटरनेट प्रोग्राम) या भ्रामक या गलत जानकारी फैलाने के लिए न्यूज साइट के साथ-साथ कनेक्टीविटी पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध और वेबसाइट्स की ब्लॉकिंग जैसे तकनीकी चाल भी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: रियल स्टेट के आए अच्छे दिन, केंद्र सरकार ने अटके हाउसिंग प्रोजेक्ट्स को दिए 25 हजार करोड़