‘ईरान झुक रहा है, शांति को तैयार’, डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान के क्‍या हैं मायने?

राष्‍ट्र के नाम संबोधन में ट्रंप ने जो कहा, उसका शाब्दिक अर्थ कुछ और, असल मतलब कुछ और है.
Donald Trump Speech, ‘ईरान झुक रहा है, शांति को तैयार’, डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान के क्‍या हैं मायने?

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप शांति का पाठ पढ़ा रहे हैं. ईरान ने इराक में अमेरिकी सैनिकों के ठिकाने पर हमला किया और ट्रंप को शांति का महत्‍व समझ आ गया. राष्‍ट्र के नाम संबोधन में ट्रंप ने जो कहा, उसका शाब्दिक अर्थ कुछ और, असल मतलब कुछ और है. आइए ट्रंप के भाषण को डिकोड करें.

ट्रंप ने कहा – ईरान झुकता दिख रहा है, जो कि सभी लोगों के लिए और दुनिया के लिए अच्‍छी बात है.

सच – ईरान ने बैकऑफ नहीं किया है. उसने आक्रामक रुख बरकरार रखा है. राष्‍ट्रपति हसन रूहानी ने गुरुवार को कहा, “उन्होंने हमारे प्यारे सुलेमानी का हाथ काट दिया. उसका बदला हम इस क्षेत्र से अमेरिका के पैर काट कर लेंगे.”

ट्रंप ने कहा – (जनरल कासिम) सुलेमानी का खात्‍मा कर हमने आतंकवादियों को कड़ा संदेश भेजा है : अगर तुम्‍हें अपनी जान की फिक्र है तो तुम हमारे लोगों की जान को चुनौती नहीं दोगे.”

सच – कई एक्‍सपर्ट्स मान रहे हैं कि ईरान पीछे नहीं हटेगा. BBC ने लिखा है कि ईरान का जवाब अभी जारी है, ऐसे में ट्रंप अपने शब्‍दों पर थोड़ा काबू रखें.

ट्रंप ने कहा – अमेरिका शांति स्‍थापित करने को तैयार है.

सच – ट्रंप को अपने सैनिकों की चिंता है. खाड़ी के देशों में कम से कम 100 US मिलिट्री बेस हैं. इनमें करीब 70 हजार अमेरिकी सैनिक तैनात हैं. ईरान बदले की आग में इन्‍हें निशाना बना सकता है. चुनाव से ठीक पहले ट्रंप अमेरिकी सैनिकों की मौत का जोखिम नहीं ले सकते.

ट्रंप ने कहा – जब तक मैं अमेरिका का राष्‍ट्रपति हूं, ईरान को न्‍यूक्लियर वेपन रखने की इजाजत नहीं मिलेगी.

सच – न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की एक रिपोर्ट बताती है कि अमेरिका के पास ईरान के परमाणु हथियार होने के सबूत नहीं हैं. डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्‍योरिटी ने कहा है कि अमेरिकी सीमा के भीतर ईरान से ‘कोई स्‍पष्‍ट खतरा’ नहीं है.

ये भी पढ़ें

ईरान-अमेरिका के बीच गरमा-गरमी से हमें कितना नुकसान? पढ़ें 5 बड़े खतरे

अमेरिका से जंग में ईरान के लिए ‘ट्रंप’ कार्ड साबित होगा ये तीन किलोमीटर चौड़ा समुद्री गलियारा

Related Posts