ट्रंप ने कहा ‘भारत से नहीं लगी चीन की सीमा’ तो बीच मीटिंग से उठ गए मोदी, किताब में दावा

भारत-चीन संबंध पर ट्रंप की इस टिप्पणी का दावा अमेरिकी राष्ट्रपति के करीबी सूत्रों द्वारा किया गया है. साथ ही कहा गया है कि इस तरह की बात सामने आने के बाद भारत ने अमेरिका के साथ राजनैतिक संबंध बनाने से कदम पीछे खींच लिए थे.

अमेरिकी राष्ट्रपति को दुनिया की भौगोलिक स्थिति की अपनी जानकारी की वजह से अक्सर शर्मिंदा होना पड़ता है. उन्होंने एक बार कई लोगों के बीच मीटिंग में पीएम मोदी से कह दिया था कि भारत की सीमा चीन से नहीं लगी है. इस बात पर पीएम मोदी मीटिंग बीच में ही छोड़कर उठ गए थे. ये दावा वॉशिंगटन पोस्ट के दो पत्रकारों की नई किताब ‘अ वेरी स्टेबल जीनियस’ में किया गया है.

फिलिप रकर और कैरोल लिओनिंग ने अपनी इस किताब में ट्रंप के एक साथी के हवाले से लिखा है कि उस मीटिंग में ट्रंप के कथन के बाद मोदी के चेहरे के हाव भावों से संकेत मिलता था कि वह ट्रंप के बारे में क्या सोच रहे हैं. वे मन में सोच रहे थे कि यह शख्स गंभीर नहीं है. मैं इसे अपने साथी के रूप में स्वीकार नहीं कर सकता हूं.

मोदी-ट्रंप की पहली मुलाकात

भारत-चीन संबंध पर ट्रंप की इस टिप्पणी का दावा अमेरिकी राष्ट्रपति के करीबी सूत्रों द्वारा किया गया है. साथ ही कहा गया है कि इस तरह की बात सामने आने के बाद भारत ने अमेरिका के साथ राजनैतिक संबंध बनाने से कदम पीछे खींच लिए थे. हालांकि इस विषय पर किताब में स्पष्ट नहीं लिखा है लेकिन माना जा रहा है कि यह वाकया ट्रंप और मोदी की पहली मुलाकात का है.

भारत और चीन के बीच 3,488 किलोमीटर की LOC का विवाद अभी सुलझा नहीं है. ट्रंप की इस टिप्पणी के बाद भारतीयों ने भारत-चीन सीमा के बारे में सबसे ज्यादा सर्च किया था. बता दें कि ट्रंप पहले भी इस तरह की गलत बयानी कर चुके हैं. अमेरिकी सरकार के पूर्व सलाहकर बताते हैं कि ट्रंप सोचते थे कि नेपाल और भूटान भारत में हैं.

ये भी पढ़ेंः

बड़ा खुलासा : अयान अल-असद एयरबेस पर ईरान के मिसाइल अटैक में घायल हुए थे 11 अमेरिकी सैनिक

जानिए क्यों इटली के आर्टिस्ट ने दिखाए शक्तिशाली महिलाओं के चोट खाए चेहरे, सोनिया गांधी भी शामिल

Related Posts